July 26, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

दो सगी बहनों की हत्या का हुआ चौंकाने वाला खुलासा, मोबाइल पर बात करने से नाराज मां-भाई ने ही किया था डबल मर्डर


पीलीभीत: उत्तर प्रदेश के पीलीभीत (Pilibhit) में तीन दिन पहले ईंट-भट्ठे पर काम करने वाली दो सगी बहनों की हत्या (Double Murder) का पुलिस ने गुरुवार को खुलासा कर दिया है. इसके साथ ही मृतक बहनों की मां, भाई और भट्टा मालिक को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि मां और दो भाइयों ने ही मिलकर दोनों को मौत के घाट उतार दिया था. दोनों बहनों का कसूर सिर्फ इतना था कि वह मोबाइल से बात किया करती थीं.

UP में अजान के बाद अब बुर्के पर विवाद, मंत्री के कहा-भरोसे में लेकर सरकार लगाएगी प्रतिबंध 

क्या है मामला?
दरअसल, 23 मार्च को बीसलपुर थाना क्षेत्र के सोनी भट्टे पर काम करने वाली दो बहनों की लाश मिली थी. बड़ी बहन पूजा का शव भट्टे के पास सड़क पर मिला था. छोटी बहन अंशिका का शव पेड़ से लटका मिला था. पुलिस ने गहनता से मामले की जांच की तो सामने आया कि भट्टे पर मुनीम महेश ने पूजा को एक मोबाइल दिया था. इससे पूजा, महेश नाम के लड़के से बात किया करती थी. इसके साथ ही उसी मोबाइल से छोटी बहन अंशिका भी संजीव नाम के एक युवक से बात करती थी. 22 मार्च की शाम पूजा बात कर रही थी, तभी मां ने उसे मोबाइल के साथ पकड़ लिया और पूछताछ करने लगी. लेकिन पूजा ने कुछ नहीं बताया. जिसके बाद गुस्से में मां कमला देवी ने गला घोट दिया. इस दौरान दो भाइयों ने उसके हाथ-पैर पकड़ रखे थे.

अंशिका को जिंदा ही पेड़ पर लटकाया
वहीं, अंशिका ने जब यह देखा तो उसने अपने भाई रामप्रताप के मोबाइल से संजीव को फोन कर बताया कि कॉल मत करना मोबाइल पकड़ा गया है. आंशिका के भाई ने उसे यह बात कहते सुन लिया. इसके बाद अंशिका को भी पूजा की तरह ही मौत के घाट उतार दिया गया. बताया जा रहा है कि पूजा की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि अंशिका बेहोश हुई थी. इसके बाद रात में ही मां, दोनों बेटों और घर के दामाद अनिल ने अंशिका को बेहोशी की हालत में ही फांसी के फंदे पर पेड़ पर लटका दिया और पूजा को बाहर फेंक दिया.

अवैध खनन रोकने गई वन विभाग की टीम पर हमला, दारोगा समेत कई घायल

 

तीन गिरफ्तार, दो फरार
इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपियों ने भट्ठे के ठेकेदार बाबूराम को पूरी बात बताई. बाबूराम ने भट्ठा मालिक अली हसन को जानकारी दी. लेकिन अली हसन ने पुलिस को सूचना नहीं दी. गुरुवार को जब पुलिस ने खुलासा किया तो अली हसन को भी आरोपी बना लिया. पुलिस ने मृतका की मां, भाई राम प्रताप और अली हसन को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि मृतक का दूसरा भाई विजय प्रताप और मदद करने वाले दामाद अनिल दोनों ही फरार हैं.

रेलवे यात्रियों को जूठी प्लेटों में पैक कर दिया जा रहा था खाना, ऐसे खुली पोल

WATCH LIVE TV

 





Source link

%d bloggers like this: