Flight का सफर होगा और महंगा, 1 तारीख से बढ़ जाएगी Aviation Security Fee


दिल्ली: नए वित्तीय वर्ष के शुरू होने के साथ ही देश में बहुत कुछ चीजें बदल जाएंगी. इसी बीच एयरलाइंस कंपनियों ने ऐलान कर दिया है कि 1 अप्रैल से विमानन सुरक्षा शुल्क (Aviation Security Fee) की नई दरें लागू कर दी जाएंगी. इसका असर ये होगा कि पहले के मुकाबले हर यात्री से 40 रुपये ज्यादा लिए जाएंगे. कुल मिलाकर हवाई यात्रा करने के लिए आपको ज्यादा रुपये खर्च करने पड़ेंगे.

ASF में 25 फीसदी का इजाफा

विमानन सुरक्षा शुल्क (Aviation Security Fee) पहले हर यात्री से 160 रुपये ली जाती थी. 1 अप्रैल से 25 फीसदी बढ़ोतरी के साथ हर यात्री से 200 रुपये लिए जाएंगे. इससे हर यात्री को पहले के मुकाबले ज्यादा किराया देना होगा. अंतरराष्ट्रीय यात्रियों का ASF 5.2 डॉलर से बढ़कर 12 डॉलर हो जाएगा. घरेलू किराए में बढ़ोतरी के बाद ये महंगाई का डबल डोज होगा.

2019 और 2020 में भी बढ़ी थी ASF

इससे पहले एक सितंबर 2020 से नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय विमान यात्रियों से अधिक ASF वूसलने का फैसला किया था. तब अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए यह 4.85 डॉलर के बजाय 5.2 डॉलर हो गया था. इजाफे के बाद घरेलू हवाई यात्रियों के लिए ASF 150 रुपये के बजाय 160 रुपये का हो गया था. 2019 में भी ASF में इजाफा किया गया था तब घरेलू यात्रियों के लिए ASF 130 रुपये से बढ़ाकर 150 रुपये कर दिया गया था जबकि अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए यह राशि 3.25 डॉलर के बजाय 4.85 डॉलर कर दी गई थी.

क्या है ASF

विमानन कंपनियां टिकट की बुकिंग के वक्त ASF वसूल कर सरकार को दे देती हैं. इस राशि का इस्तेमाल पूरे देश के हवाई अड्डों की सुरक्षा व्यवस्था पर किया जाता है. हर साल करोड़ों रुपये  ASF के तौर पर कलेक्शन किए जाते हैं जिनसे देश के सभी हवाई अड्डों की सुरक्षा व्यवस्था को और मजबूत करने पर खर्च किया जाता है. इसके साथ ही नए हवाई अड्डों की सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम भी इसी राशि से किया जाता है.

ये भी पढ़ें:Lockdown के दौरान बुक कराई गई फ्लाइट टिकट का पूरा पैसा होगा रिफंड, सरकार ने लोक सभा में कही ये बात

इन यात्रियों को मिलेगी छूट

ASF वैसे तो हर यात्री से ली जाती है लेकिन कुछ यात्रियों को इससे छूट दी जाती है. इनमें 2 साल से कम उम्र के बच्चे, डिप्लोमैटिक पासपोर्ट धारक, ऑन ड्यूटी एयरलाइन क्रू और एक ही टिकट के जरिए पहली फ्लाइट के 24 घंटों के अंदर दूसरी कनेक्टिंग फ्लाइट लेने वाले ट्रांजिट यात्री शामिल हैं.

घरेलू हवाई सफर पहले ही हो चुका है महंगा

हाल ही में केंद्र सरकार ने घरेलू उड़ानों का न्यूनतम किराया 5 फीसदी बढ़ाने का एलान किया था. यह इजाफा भी अप्रैल के अंत तक लागू होगी. इसके पीछे हवाई जहाज का ईंधन Aviation Turbine Fuel महंगा होना बताया जा रहा है. इसके अलावा सरकार ने घरेलू एयरलाइंस को कुल क्षमता में से 80 फीसदी यात्रियों को सफर कराने का आदेश दिया है. ये नियम कोरोना के चलते बनाया गया है ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके.

LIVE TV:
 



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *