Israel Election: यहूदी देश में इस्लामिक पार्टी The United Arab List बनी किंगमेकर, ‘Raam’ के हाथ में सरकार की कमान


तेल अवीव: यहूदी देश इजरायल (Israel) में बीते दो साल में चौथी बार चुनाव हुए हैं. इन चुनावों में एक बार फिर बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) की सरकार बनती दिख रही है. गुरुवार सुबह तक हुई 90 प्रतिशत मतगणना में नेतन्याहू की पार्टी को 59 सीटों पर जीत मिलती दिख रही थी. ऐसे में अगर उन्हें 2 सीट और मिल जाती हैं उनकी सरकार बनना तय हो जाएगा. 

नेतन्याहू फिर बन सकते हैं प्रधानमंत्री

बताते चलें कि इजरायल (Israel) की संसद में कुल 120 सीटें है. अभी तक की गिनती में बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) की लिकुड पार्टी और उनके सहयोगी दलों को कुल 59 सीटें मिलती दिख रही हैं. ऐसे में अगर उन्हें 2 सीटें और मिल जाती हैं तो वे फिर से देश के प्रधानमंत्री बन जाएंगे. 

इजरायल की संसद में ‘राम’ का डंका

इजरायल के चुनावों (Israeli Elections) में इस बार सबसे दिलचस्प बात वहां एक इस्लामिक पार्टी (Islamic Party) का 5 सीटें जीतना है. इस इस्लामिक पार्टी का नाम द युनाइटेड अरब लिस्ट (The United Arab List) है. इजरायल की अपनी भाषा हिब्रू में इस पार्टी को ‘राम’ (Raam) कहा जाता है. अभी तक के चुनावी रुझानों के मुताबिक बेंजामिन (Benjamin Netanyahu) की लिकुड पार्टी को 59 और उनकी विरोधी पार्टी को 56 सीटें मिलती नजर आ रही हैं. ऐसे में सरकार बनाने के 61 सीटों के आंकड़े तक पहुंचने के लिए उन्हें ‘राम’ पार्टी का सहारा लेना होगा. चुनाव में अचानक बनी इस दिलचस्प स्थिति से यह पार्टी किंग मेकर बन गई है.  

वर्ष 2009 से सत्ता में बने हुए हैं नेतन्याहू

नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) साल 2009 से सत्ता में बने हुए हैं. वहां पर पिछले दो साल में चार बार चुनाव हो चुके हैं लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. पिछली बार मार्च में हुए चुनाव के मुकाबले इस बार 4.3 प्रतिशत कम मतदान हुआ. कुछ पर्यवेक्षकों का मानना है कि लोग चुनावों से थक चुके हैं और चाहते हैं कि अब देश में एक स्थिर सरकार बन जाए.

VIDEO

कट्टर इस्लामिक विचारों वाली है पार्टी

सूत्रों के मुताबिक ‘राम’ (Raam) पार्टी भले ही किंगमेकर की भूमिका में आ गई हो लेकिन उसे साध पाना दोनों प्रमुख यहूदी पार्टियों के लिए इतना आसान नहीं हैं. दरअसल दोनों प्रमुख पार्टियां देश में बसे यहूदी लोगों का प्रतिनिधित्व करती हैं, जबकि इस्लामिक पार्टी द युनाइटेड अरब लिस्ट (The United Arab List) इजरायल में बसे मुस्लिमों के हितों की बात करती है. इजरायल में इन अरब मुस्लिमों की संख्या भी बहुत कम है और वे देश की यहूदी आबादी के बजाय खुद को फिलीस्तीन और दूसरे अरब देशों के ज्यादा नजदीक मानते हैं. 

ये भी पढ़ें- Israel में प्रधानमंत्री Benjamin Netanyahu के Naked Statue पर बवाल, कोई नहीं जानता किसने बनाई प्रतिमा

फिलीस्तीन की आजादी की समर्थक

बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) के लिए यहां उनकी छवि भी आड़े आ रही है. वे अपने राष्ट्रवादी विचारधारा के लिए ज्यादा जाने जाते हैं. वे फिलिस्‍तीनियों को अधिक छूट और गाजा पट्टी में इजरायली कॉलोनियों के विस्‍तार को रोके जाने के खिलाफ रहे हैं. वहीं इस्लामिक पार्टी ‘राम’ (Raam) पार्टी बेंजामिन नेतन्याहू की नीतियों का विरोध करती रही है. ऐसे में विचारधारा स्तर पर मतभेद भुलाकर क्या दोनों पार्टियां एक प्लेटफार्म पर आ पाएंगी, इस सवाल पर बेंजामिन नेतन्याहू का राजनीतिक भविष्य तय करने जा रहा है.  

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *