महाराष्ट्र से सटे MP के इस जिले में कोरोना हुआ बेकाबू, धारा-188 लागू, इन गलतियों पर जाना पड़ सकता है जेल


बड़वानीः महाराष्ट्र से सटे बड़वानी जिले में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है. इसके बाद भी जिले में लोग लापरवाही बरत रहे हैं. ऐसे में अब जिला प्रशासन ने सख्ती करने के निर्देश दिए हैं. बड़वानी जिले के कलेक्टर ने कोरोना नियमों का उल्लंघन करने पर धारा-188 के तहत कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं. 

बड़वानी जिले के कलेक्टर शिवराज वर्मा ने कहा कि महाराष्ट्र से लगा होने के चलते बड़वानी जिले में यहां से आने जाने वाले लोगों की संख्या अधिक रहती है. जिससे यहां संक्रमण बढ़ रहा है. ऐसे में कलेक्टर ने धारा 188 लागू करते हुए जिले में सामाजिक और सांकृतिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगा दिया है. उन्होंने बताया कि लगातार अपील करने के बाद भी लोग सवाधानी नहीं बरत रहे हैं. हाट बाजारों में लोगों की खूब भीड़ उमड़ रही है, जहां कई लोग न मास्क का प्रयोग कर रहे है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग दिख रही है. ऐसे में यह सख्ती बरती जा रही है. 

धारा 188 के तहत होगी कार्रवाई 
कलेक्टर ने कहा कि बड़वानी जिले में कोरोना को रोकने लिए धारा 188 लगाई जा रही है. जिले में अगर कोई व्यक्ति बेवजह कोरोना के नियमों को तोड़ेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने जिले के लोगों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग मास्क जरूर लगाए और बेवजह घरों से बाहर न निकले. 

ये भी पढ़ेंः MP में कोरोना का कहर, इस इलाके के लोगों ने अपनी मर्जी से लगाया लॉकडाउन

क्या है धारा 188? 
धारा 188 इंडियन पीनल कोड (भारतीय दंड संहिता) के तहत लागू करने का आदेश कलेक्टर देते हैं. धारा 188 के तहत अगर कोई भी व्यक्ति सरकार, जिला प्रशासन और सरकारी नियमों का उल्लंघन करता है तो उसे दंडित किया जा सकता है. साथ ही सरकारी कर्मचारी द्वारा दिए निर्देशों का उल्लंघन करने पर भी आपके खिलाफ ये धारा लगाई जा सकती है. यहां तक कि किसी के ऊपर ये धारा लगाने व कानूनी कार्रवाई करने के लिए ये भी जरूरी नहीं कि उसके द्वारा नियम तोड़े जाने से किसी का नुकसान हुआ हो या नुकसान हो सकता हो अगर आपको सरकार द्वारा जारी उन निर्देशों की जानकारी है, फिर भी आप उनका उल्लंघन कर रहे हैं, तो भी आपके ऊपर धारा 188 के तहत कानूनी कार्रवाई की जा सकती है. 

धारा 188 के तहत मिल सकती है यह सजा 
अगर कोई धारा 188 का उल्लंघन करता है और उसकी किसी हरकत से कानून व्यवस्था में लगे शख्स को नुकसान पहुंचता है, तो व्यक्ति को कम से कम एक महीने की जेल या 200 रुपये जुर्माना या दोनों की सजा दिए जाने का प्रावधान है. इसके अलावा मानव जीवन, स्वास्थ्य या सुरक्षा आदि को खतरा होता है, तो आपको कम से कम 6 महीने की जेल या 1000 रुपये जुर्माना दिए जाने का प्रावधान भी इस धारा के तहत आता है. पिछले साल लॉकडाउन के दौरान इस धारा को प्रभावी रूप से पूरे देश में लागू किया गया था. जिसे अब बड़वानी जिले में भी लागू कर दिया गया है. 

ये भी पढ़ेंः रतलाम के इस बाजार में 150 साल में पहली बार नहीं होगा होलिका दहन, व्यापारियों की बढ़ी चिंता

WATCH LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *