Maharashtra में सियासी संकट के बीच क्या Sharad Pawar और Amit Shah के बीच हुई मुलाकात? NCP के इस नेता ने दिया जवाब


मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार में मंत्री और राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने पार्टी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के बीच मुलाकात का खंडन किया है. मलिक ने आरोप लगाया कि इस तरह की बातें करके भ्रम पैदा करना BJP का तरीका है.

मलिक ने बीजेपी पर साधा निशाना

मलिक ने आगे कहा, ‘यह पूरी तरह से झूठी जानकारी है, जिसे कुछ लोगों ने भ्रम पैदा करने के लिए जानबूझकर फैलाई है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) कुछ भ्रम पैदा करना चाहती है. ऐसी कोई मुलाकात नहीं हुई है. पवार का शाह से मिलने का कोई कारण नहीं है.’

ये भी पढ़ें:- कोरोना: महाराष्ट्र में लग सकता है लॉकडाउन, CM उद्धव ठाकरे ने दिए संकेत

‘हर चीज को सार्वजनिक नहीं किया जाता’

गौरतलब है कि राजनीतिक गलियारों में इस तरह की अटकलें थीं कि शाह शनिवार को अहमदाबाद में शीर्ष उद्योगपति के आवास पर पवार और प्रफुल्ल पटेल से मिले हैं. हालांकि शाह ने रविवार को दिल्ली में प्रेस वार्ता में कथित मुलाकात के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा कि हर चीज को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है.

महाराष्ट्र में जारी है सियासी ड्रामा

इस बीच रविवार को महाराष्ट्र में सियासी ड्रामा भी देखने को मिला, जिसकी शुरुआत शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने अपने लेख से की. उन्होंने सामना के जरिए राकांपा नेता अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के एक्सीडेंटल गृह मंत्री बनने संबंधी बयान दिए. जिसके बाद महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार (Ajit Pawar) ने कहा कि किसी को भी गठबंधन सरकार में स्थिति को बिगाड़ना नहीं चाहिए.

ये भी पढ़ें:- मार्केट में धमाल मचाने आ रहीं ये 5 कारें, फीचर्स जान आप भी हो जाएंगे दीवाने

पवार ने कहा, ‘मंत्री पद का आवंटन हर राजनीतिक दल (गठबंधन में) के प्रमुख का विशेषाधिकार होता है. जब तीन दलों की सरकार ठीक से काम कर रही है, ऐसे में किसी को स्थिति बिगाड़नी नहीं चाहिए.’ उन्होंने कहा कि राज्य में एनसीपी के कोटा से किसे कौन सा पद मिलेगा, ये शरद पवार तय करते हैं. इसी तरह का तरीका कांग्रेस और शिवसेना भी अपनाती है.

परमबीर सिंह ने चिट्ठी में लगाए थे आरोप

बता दें कि मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख परमबीर सिंह ने 20 मार्च को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे एक पत्र में दावा किया था कि गृह मंत्री देशमुख चाहते थे कि पुलिस अधिकारी बार और होटलों से 100 करोड़ रुपये की मासिक वसूली करें. हालांकि, देशमुख ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *