July 25, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

इस गांव में मनाई जाती है अनोखी होली, धधकते अंगारों पर नंगे पांव चलते हैं लोग


रायसेनः होली का त्योहार मान्यताओं और परंपराओं का समागम है. देश के अलग-अलग हिस्सों में होली हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है.  कहीं फूलों से होली खेली जाती है, तो कहीं पर लोग एक दूसरे पर लट्ठ बरसातें हुए होली खेलते हैं. लेकिन आपने कभी आग के जलते अंगारों पर चलकर होली खेले जाने के बारे में सुना है. इस पर यकीन कर पाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है. लेकिन रायसेन जिले के एक गांव में होली के दिन अंगारों पर चलने की परंपरा है.  

होली के दिन अंगारों पर चलते हैं लोग 
रायसेन जिले की सिलवानी तहसील में आने वाले महगवां गांव में अंगारों से होली खेलने की परंपरा है. होली के दिन यहां के लोग जान जोखिम में डालकर अंगारों पर से निकलते हैं, ग्रामीणों का मानना है कि ऐसा करने से उनका गांव आपदा और दूसरी परेशानियों से सुरक्षित रहता है. 

डेढ़ सौ साल से चली आ रही परंपरा 
महगवां गांव के लोगों का कहना है कि होली के दिन अंगारों पर चलने की परंपरा उनके गांव में डेढ़ सौ साल से चली आ रही है. गांव के बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक नंगे पैर धधकते अंगारों पर ऐसे चलते हैं, मानो सामान्य जमीन पर चल रहे हों. गांव को आपदा से और खुद को बीमारियों और संकटों से दूर रखने के लिए ग्रामीण इस परंपरा को निभाते आ रहे हैं, ग्रामीणों का दावा है कि इतने गरम अंगारों पर चलने के बाद भी न तो उनके पैरों में छाले पड़ते हैं और न ही किसी तरह की तकलीफ होती है. 

ये भी पढ़ेंः कहीं गाली देकर तो कही कपड़े फाड़कर मनाई जाती है Holi, जानिए अलग-अलग जगहों की अनोखी होली के बारे में

होलिका दहन के दूसरे दिन होती परंपरा 
ग्रामीणों ने बताया कि होलिका दहन के दूसरे दिन यह परंपरा गांव में निभाई जाती है. गांव के चौराहे पर जलते हुए अंगारों पर रखा जाता है. उसके बाद गांव के पुजारी पूजा करते हैं, पूजा के बाद नंगे पैर अंगारों पर निकलने का सिलसिला शुरू होता है. ग्रामीणों का कहना है कि पहले सभी लोग अंगारों पर चलते हैं उसके बाद सभी एक दूसरे को रंग गुलाल लगाते हैं. 

हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि यह परंपरा उनके गांव में कब शुरू हुई, इस बात की कोई सटीक जानकारी तो उनके पास नहीं है. लेकिन बुजुर्ग ग्रामीणों के अनुसार यह परंपरा डेढ़ सौ साल से तो चली आ रही है. इसलिए बुजुर्गों के कहने पर हर साल गांव में यह परंपरा होली पर निभाई जाती है. 

ये भी पढ़ेंः चलती बस में प्रेग्नेंट महिला को होने लगा दर्द, ड्राइवर ने किया ऐसा काम, आप भी करेंगे सलाम

WATCH LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: