मुख्तार एम्बुलेंस मामला, बाराबंकी में धोखाधड़ी समेत कई धाराओं में केस दर्ज


बाराबंकी. जेल में बंद माफिया और बसपा विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) द्वारा इस्तेमाल की गई एम्बुलेंस मामले में कार्रवाई शुरू हो गई है. इस संबंध में बाराबंकी की नगर कोतवाली में धोखाधड़ी समेत दूसरी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. एम्बुलेंस मामले में मऊ जिले की डॉक्टर अलका राय के खिलाफ शहर कोतवाली में केस दर्ज किया गया है.

कई धाराओं में केस दर्ज
जानकारी के अनुसार, धारा 420, 419, 467, 468 समेत कई धाराओं में केस दर्ज हो गया है. एसपी बाराबंकी के निर्देश पर एम्बुलेंस मामले में मुकदमा दर्ज हुआ है. पुलिस-प्रशासन ने मामले में जांच पड़ताल शुरू कर दी है. एंबुलेंस, अस्पताल और डॉक्टर को लेकर कार्रवाई हो रही है.

माफिया मुख्तार अंसारी की एम्बुलेंस में खुलासे

बता दें कि पंजाब के मोहाली कोर्ट में पेशी के दौरान माफिया मुख्तार अंसारी की एम्बुलेंस नजर आई. तभी से मामले में रोज नए खुलासे हो रहे हैं. ऐसी जानकारी है कि मुख्तार 2013 से ही इस एम्बुलेंस का इस्तेमाल कर रहा है. माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को जिस एम्बुलेंस का प्रयोग किया गया वह बाराबंकी के एआरटीओ कार्यालय में पंजीकृत है. अलका राय के अस्पताल के नाम से 2013 में ही इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन हुआ. चार साल से इंश्योरेंस और छह साल से इसकी फिटनेस भी नहीं कराई गई है. सबसे गंभीर बात है कि जिस पते पर अस्पताल और डॉक्टर का नाम बताया गया है, वह कई सालों से वजूद में ही नहीं है. स्वास्थ्य महकमा इस नाम के किसी अस्पताल (Hospital) का पंजीकरण न होने का दावा कर रहा है.

‘UP 41 AT 7171’ नंबर की एम्बुलेंस से मोहाली कोर्ट पहुंचा मुख्तार अंसारी, जानिए इसका बाराबंकी कनेक्शन

यूपी नंबर की इसी एम्बुलेंस को लेकर बवाल हो रहा है. मुख्तार अंसारी को जिस एम्बुलेंस से उत्तर प्रदेश लाया जाना था वह श्याम संजीवनी हॉस्पिटल के नाम पर दर्ज है. जिसकी संचालिका डॉ.अलका राय हैं. हालांकि इस पूरे मामले में डॉ. अलका राय का कहना है कि उनके पास ना तो कोई एम्बुलेंस है और ना ही उनका बाराबंकी में कोई हॉस्पिटल है. उनका एकमात्र हॉस्पिटल मऊ में है. अलका का कहना है कहा कि मुख्तार अंसारी मऊ जिले के विधायक हैं और वह हमारे भी विधायक हैं. इसलिए मैं उनको जानती हूं. हमारा मायका भी गाजीपुर के युसुफपुर मोहम्मदाबाद में है. यहां मुख्तार अंसारी का घर है, लेकिन एम्बुलेंस के सवाल पर डॉ. अलका राय ने मना कर दिया कि उनके नाम पर कोई एम्बुलेंस रजिस्टर्ड नहीं है.

मोहाली कोर्ट में हुई थी मुख्तार की पेशी
पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने बुधवार को माफिया डॉन मुख़्तार अंसारी (Mafia Don Mukhtar Ansari) को कथित जबरन वसूली के मामले में पेश किया. मुख्तार को बाराबंकी नंबर की एम्बुलेंस से मोहाली कोर्ट (Mohali Court) में पेश किया गया था. इस दौरान मुख़्तार अंसारी व्हील चेयर पर बैठा नजर आया. बाहुबली विधायक को जिस एंबुलेंस से लाया गया उसी पर विवाद है. इस एम्बुलेंस का नंबर यूपी का है. ये एक अस्पताल के नाम पर रजिस्टर्ड है और सरकारी रिकॉर्ड में उस जगह पर कोई अस्पताल नहीं है. 

पंजाब सरकार उसे फंसा रही-मुख्तार 
मोहाली कोर्ट में पेश करने के बाद मुख्तार अंसारी को मोहाली में दर्ज मामले की चार्जशीट की कापियां दी गईं. कोर्ट से निकलते समय मीडिया के सवालों पर मुख्तार ने कहा कि पंजाब सरकार उसे फंसा रही है. उसके खिलाफ झूठे मामले दर्ज किये गए हैं. 

यूपी सरकार खटखटा चुकी है Sc का दरवाजा
मालूम हो कि मऊ जिले का रहने वाला माफिया डॉन मुख्तार अंसारी काफी दिनों से पंजाब के रोपड़ जेल में बंद है. प्रदेश सरकार उसे वापस लाने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक का दरवाजा खटखटा चुकी है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मुख्तार को लेने यूपी की पुलिस पंजाब गई थी. वहीं से पेशी पर पहुंचे मुख्तार ने बाराबंकी जिले की पंजीकृत निजी एंबुलेंस का इस्तेमाल किया था.

जेल में अपना नेटवर्क मजबूत करने की तैयारी में मुख्तार गैंग
जानकारी मिल रही है कि यूपी की जेल में मुख्तार के आने से पहले अंसारी गैंग एक्टिव हो चुका है. ये गैंग जेल में अपना नेटवर्क मजबूत करने की तैयारी में लगा हुआ है. इस बात को लेकर लोकल इंटेलिजेंस यूनिट को अलर्ट किया गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बेल पर जेल से बाहर आये मुख्तार अंसारी  के गुर्गे, अब अपनी बेल कैंसिल करा कर वापस जेल जाने की तैयारी में हैं. बता दें कि अलग-अलग जगह पर माफिया मुख्तार गैंग के दर्जनों अपराधी जेल से बाहर हैं.

यूपी सरकार ने सुलझाया 2 से 4 साल से लंबित भर्तियों में आरक्षण का पेंच, हजारों आवेदकों को राहत

WATCH LIVE TV

 

 



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *