August 2, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

राजस्व लक्ष्य को अर्जित नहीं कर पाया परिवहन विभाग, जानिए 12 RTO में कौन रहा आगे, कौन पीछे


Jaipur : राजस्थान परिवहन विभाग (Rajasthan Transport Department) ने राज्य सरकार के खजाने को भरने में अपने राजस्व लक्ष्य को अर्जित नहीं कर पाया. राज्य सरकार (Rajasthan Government) के लिए राजस्व अर्जित करने वाला चौथा सबसे बड़ा विभाग है, लेकिन यह विभाग वित्तिय वर्ष 2020-21 में कोरोना के खराब दौर से गुजरा है. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देशभर में करीब 4 महीने लॉकडाउन के दौरान कोई हलचल नहीं हो पाई है, जिसके कारण ट्रांसपोर्ट व्यवसाय में आई मंदी के चलते विभाग ने अपना राजस्व लक्ष्य अर्जित नहीं कर पाया है. विभाग अपने लक्ष्य से 900 करोड़ पीछे रहा है. सरकार द्वारा दिए लक्ष्य में विभाग ने 4333 करोड़ का राजस्व अर्जित किया है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan Roadways और Police आमने-सामने, पास की लड़ाई में काटे धड़ाधड़ चालान

वाणिज्य कर विभाग, स्टांप एंड रजिस्ट्रेशन और आबकारी विभाग के बाद परिवहन विभाग राजस्व वसूली के मामले में राज्य सरकार का चौथा सबसे बड़ा विभाग है. विभाग को इस वित्तीय 2020-21 में 5200 करोड़ रुपए का राजस्व लक्ष्य अर्जित करना था. परिवहन विभाग इस लक्ष्य को पूरा करने में जुटा हुआ था, लेकिन कोविड-19 महामारी के चलते खड़े हुए आर्थिक संकट से विभाग परेशानी में आ गया था. विभाग इस वित्तीय वर्ष में भी अपना राजस्व अर्जित नहीं कर पाया. 

परिवहन आयुक्त रवि जैन (Transport Commissioner Ravi Jain) ने बताया कि इस वर्ष में नई गाड़ियों की बिक्री में कमी आई थी, जिससे मिलने वाला बड़ा राजस्व विभाग को प्राप्त नहीं हो पाया. वहीं, दूसरी तरफ आर्थिक संकट से जूझ रही आम जनता को चालान बढ़ाकर परेशानी नहीं करने के निर्देश भी राज्य सरकार की तरफ से दे रखे थे. हालांकि डिफॉल्टर पर सख्ती करने के लिए परिवहन मंत्री के द्वारा लगातार निर्देश दिए जा रहे थे. ऐसे में आम जनता को राहत भी दी गई थी, लेकिन विभाग अपना राजस्व अर्जित नहीं कर पाया. बता दे परिवहन विभाग ने वित्तीय वर्ष 2020—21 में 4333 करोड़ का राजस्व अर्जित किया है.

12 माह में 84% रहा राजस्व
– परिवहन विभाग को इस वित्त वर्ष 2020-21 में अर्जित करने थे 5200 करोड़, लेकिन 31 मार्च तक विभाग ने राजस्व अर्जित किया 4333 करोड -यानी कुल राजस्व का 84.0 प्रतिशत किया राजस्व अर्जित.
-पिछले वर्ष 90% करा राजस्व अर्जित किया था.
-पिछले साल 5650 करोड के लक्ष्य के विपरीत 5100 करोड़ रुपए अर्जित किए थे.

12 आरटीओ में कौन रहा आगे कौन पीछे
जयपुर आरटीओ 1043.33 था टारगेट, इसके विपरीत 818. 46 करोड़ राजस्व अर्जित कर सका.
दौसा आरटीओ का 159. 99 करोड़ का राजस्व इसके विपरीत 141.24 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
सीकर आरटीओ का 397.08 करोड़ लक्ष्य था इसके विपरीत 350.60 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
अलवर आरटीओ का 305.60 करोड़ का टारगेट था इसके विपरीत 240.57 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
भरतपुर आरटीओ का 208.60. करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 176.6 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
अजमेर आरटीओ आरटीओ का 457.26 करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 385 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
जोधपुर आरटीओ का 513.22 करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 449.25 करोड़ रुपए राजस्व अर्जित किया.
पाली आरटीओ ने 264.75 करोड़ रू का टारगेट था उसके विपरीत 225.65 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
उदयपुर आरटीओ का 476.39 करोड का टारगेट था उसके विपरीत 376.07 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
चितौड़गढ़ आरटीओ का 381.84 करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 326.97 करोड़ राजस्व अर्जित किया.
कोटा आरटीओ का 321.01 करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 272.01 करोड़ का राजस्व अर्जित किया.
बीकानेर आरटीओ का 392 92 करोड़ का टारगेट था उसके विपरीत 332.86 करोड़ का राजस्व अर्जित किया.

परिवहन आयुक्त रवि जैन ने बताया कि परिवहन विभाग को राज्य सरकार की ओर से 5200 करोड़ रुपए का राजस्व लक्ष्य अर्जित करने का टारगेट (Target) दिया गया था. ऐसे में इस राजस्व लक्ष्य को अर्जित करने के लिए परिवहन विभाग ने हर संभव प्रयास भी किए थे. इस वित्तीय वर्ष में भाग 4333 करोड़ रुपए तक के टारगेट पर पहुंच गया था. साथ ही रवि जैन ने कहा कि कोविड-19 को देखते हुए विभाग की है संतोषजनक परफॉर्मेंस भी रही है. इसके साथ ही रवि जैन ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में परिवहन विभाग ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है. विभाग ने आज तक मार्च महीने में कभी भी 850 करोड़ रुपए से ज्यादा का राजस्व लक्ष्य अर्जित नहीं किया था, लेकिन परिवहन विभाग में ऐसा पहली बार हुआ जब विभाग ने 1 महीने में 1000 करोड़ से ज्यादा का राजस्व लक्ष्य अर्जित किया.

यह भी पढ़ें- Jaipur News: Rajasthan Roadways में अधिकारियों की मनमानी जारी, शिकायतों पर भी कोई कार्रवाई नहीं





Source link

%d bloggers like this: