August 2, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

यहां दिलचस्प होगा पंचायत चुनाव, आजादी के बाद पहली बार 33 गांव बनाएंगे ‘अपनी सरकार’


गोरखपुर: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव होने वाले हैं. अलग-अलग जिलों में प्रत्याशियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. लोगों को गांव के विकास और मूलभूत सुविधाएं दिलाने के नारे इस समय गांवों में खूब सुनाई दे रहे हैं. वहीं एक ऐसा समुदाय है जो आजादी के बाद पहली अपने गांव की सरकार बनाएगा. इस गांव का नाम वनटांगिया है. गोरखपुर, महाराजगंज, गोंडा और बलरामपुर के 33 वनटांगिया गांवों में पहली बार चुनाव प्रचार हो रहा है. इससे पहले इन गांव के बाशिंदों को अपना ग्राम प्रधान चुनने का अधिकार नहीं था. जब योगी आदित्यनाथ सीएम बने तो इन गांवों को राजस्व ग्राम घोषित किया. 

गोरखपुर जिला में पांच गांव, महराजगंज जिले के 18 वनटांगिया गांव, गोंडा और बलरामपुर के पांच-पांच गांव के लोग इस बार गांव में अपनी सरकार बनाएंगे. अब इन गांवों के निवासी पहली बार पंचायत चुनाव में सीधी और सक्रिय भूमिका निभाएंगे. इन लोगों के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ दिवाली मनाते आए हैं.

इतने लोगों को मिल रहा सरकारी योजनाओं का लाभ
सीएम योगी के प्रयास के बाद स्वच्छ भारत मिशन के तहत 35 वनटांगिया गांवों में 5,973 शौचालय, 31 को विद्युत ग्रीड और 16 ग्रामों को सोलर प्रणाली से विद्युतीकृत किया गया है. जिससे 3172 परिवार लाभान्वित हुए हैं. वनटांगिया गांव के 131 दिव्यांगों को पेंशन, 2760 परिवारों को अन्त्योदय राशन कार्ड और 6039 गृहस्थी राशन कार्ड दिए गए हैं.

दिलचस्प हो गया पंचायत चुनाव का मुकाबला! प्रधान पत्नी को टक्कर देने मैदान में उतरा पति

 

गी आदित्यनाथ का है खास लगाव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीते 14 वर्षों से अपनी दिवाली गोरखपुर के वनटांगिया समुदाय के बीच मनाते हैं. इनके हक-हुकूक के लिए उन्होंने लंबी लड़ाई लड़ी है. मुकदमा झेला है. जब मुख्यमंत्री बने तो सबसे पहले वनटांगियों को उन्होंने वो सारे हक दिए जिससे वे वर्षों से वंचित थे. ब्रिटिश हुकूमत में जब रेल पटरियां बिछाई जा रही थीं तो स्लीपर के लिए बड़े पैमाने पर जंगलों से साखू के पेड़ों की कटान हुई. इसकी भरपाई के लिए अंग्रेज सरकार ने साखू के पौधों के रोपण और उनकी देखरेख के लिए गरीब भूमिहीनों, मजदूरों को जंगल में बसाया.

साल 1918 में गोरखपुर के जंगलों में बसे थे वनटांगिए
ये अलग-अलग स्थानों के ऐसे लोग थे जिनके पास जीवनयापन का कोई जरिया नहीं था. साखू के पेड़ों का जंगल बसाने के लिए बर्मा देश जो अब म्यांमार नाम से जाना जाता है, वहां की ”टांगिया विधि” का इस्तेमाल किया गया. इसलिए वन में रहकर साखू के पेड़ लगाने और उनकी देख-रेख करने वालों को वनटांगिया कहा गया. गोरखपुर जिले के कुसम्ही जंगल के पांच इलाकों जंगल तिनकोनिया नंबर तीन, रजही खाले टोला, रजही नर्सरी, आमबाग नर्सरी व चिलबिलवा में वनटांगियों की पांच बस्तियां हैं. ये बस्तियां 1918 में बसाई गई थीं.

वनटांगिया समुदाय के मसीहा हैं CM योगी, उनके लिए झेला मुकदमा, फिर भी नहीं रुके कदम

गोरखपुर में वर्ष 1985 में वनटांगियों पर चली थी गोली
अस्सी के दशक में जब साखू के पेड़ों का जंगल तैयार हो गया तो वनटांगियों को यहां से बेदखल किया जाने लगा. वन विभाग की टीम 6 जुलाई 1985 को कुसम्ही जंगल की वनटांगिया बस्तियों में पहुंची और उन्हें दूसरे स्थान पर जाने के लिए कहा. वनटांगियों ने जंगल से निकलने से मना कर दिया. वन विभाग की टीम के साथ मौजूद सुरक्षा बलों की ओर से वनटांगियों पर फायरिंग कर दी गई. इस घटना में परदेशी और पांचू नाम के वनटांगियों की मौत हो गई, जबकि 28 अन्य घायल हो गए. घटना के बाद वन विभाग ने अपने तेवर थोड़े नरम जरूर​ किए लेकिन वनटांगियों के ​सिर पर विस्थापन झेलने का खतरा बरकरार था.

वनटांगियों के हक के लिए योगी ने लड़ी है लंबी लड़ाई
योगी आदित्यनाथ 1998 में गोरखपुर से सांसद चुने गए. उन्होंने वनटांगिया समुदाय की सुधि ली. उन्होंने राज्य सरकार के सामने और संसद के पटल पर वनटांगियों के मुद्दे लगातार उठाए. लोकसभा में वनटांगिया अधिकारों के लिए लड़ने वाले योगी ने 2007-08 में वन अधिकार संशोधन अधिनियम पास कराया. लेकिन वनटांगियों को उनका हक मिला योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद. मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के पहले ही साल अक्टूबर 2017 में उन्होंने वनटांगिया गांवों को राजस्व ग्राम का दर्जा दिलाया. इससे गोरखपुर के 5 वनग्राम,  महराजगंज के 18 वनग्राम समेत प्रदेश के सभी वनटांगिया गांवों को राजस्व ग्राम का दर्जा मिला.

जानिए कौन हैं योगी के ‘प्यारे’ वनटांगिए? सांसद रहते जिनकी आवाज बने, CM बने तो हक दिलाया

सीएम ने वनटांगिया गांवों को दिया राजस्व ग्राम का दर्जा
राजस्व ग्राम घोषित होने के साथ ही वनटांगिया गांवों के लोग हर तरह की सरकारी सुविधा के हकदार हो गए. अपने अब तक के कार्यकाल में मुख्यमंत्री योगी ने वनटांगिया गांवों को आवास, सड़क, बिजली, पानी, स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र और आरओ वाटर मशीन जैसी सुविधाएं मुहैया कराई हैं. वनटांगिया गांवो में सभी परिवारों के पास सीएम आवास योजना के तहत पक्का घर, कृषि योग्य भूमि, आधार कार्ड, राशन कार्ड, रसोई गैस कनेक्शन है. पात्रों को वृद्धा, विधवा, दिव्यांग आदि पेंशन योजनाओं का लाभ मिल रहा है. वनटांगिया बच्चे स्कूलों में पढ़ रहे हैं. 

UP Panchayat Chunav 2021: ‘जवन मजा बा प्रधानी में, उ कहां फिल्म कहानी में’; जौनपुर में ग्लैमरस चुनाव

वनटांगिया बच्चे सीएम योगी को कहते हैं ‘टॉफी वाले बाबा’
योगी आदित्यनाथ वर्ष 2007 से ही वनटांगिया समुदाय के बीच दिवाली मनाते आ रहे हैं. मुख्यमंत्री बनने के बाद भी उन्होंने यह परंपरा जारी रखी है. हर साल दिवाली पर वह किसी एक वनटांगिया गांव में आते हैं, बच्चों को मिठाई, टॉफी, कापी-किताब और स्कूल किट का उपहार देकर पढ़ने को प्रेरित करते हैं. बीते तीन वर्षों से वह हर दिवाली पर वनटांगिया गावों को विकास परियोजनाओं की सौगात देते आ रहे हैं. इस बार भी उन्होंने 67 लाख की परियोजनाओं का शिलान्यास किया है. वनटांगिया गांवों के बच्चे मुख्यमंत्री योगी को ‘टॉफी वाले बाबा’ कहकर भी पुकारते हैं.

WATCH LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: