July 30, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

Lockdown लगाने की नहीं जरूरत, टेस्टिंग-ट्रेकिंग से देंगे Coronavirus को मात: PM Narendra Modi


नई दिल्ली: देश में तेजी से बढ़ते कोरोना (Coronavirus) के दैनिक मामलों पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने गुरुवार को कहा कि संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए फिर से युद्ध स्तर पर काम करना आवश्यक है. राज्यों को कंटेनमेंट जाने बनाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए कोरोना जांच में तेजी लाने की जरूरत है.

कोरोना की खतरनाक हुई रफ्तार

मुख्यमंत्रियों के साथ देश में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति की समीक्षा करने के बाद अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘पिछले साल कोरोना की जो सर्वोच्च रफ्तार थी, उसे हम इस बार पार कर चुके हैं. इस बार मामलों की वृद्धि दर पहले से भी ज्यादा तेज है. महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत कई राज्य पहली लहर की ‘पीक’ को भी पार कर चुके हैं. कुछ और राज्य भी इस ओर बढ़ रहे हैं. हम सबके लिए ये चिंता का विषय है. ये एक गंभीर चिंता का विषय है.’

ये भी पढ़ें:- क्‍या कोरोना के कुछ टीके दूसरों से अधिक प्रभावी हैं? इस सवाल का जानिए जवाब

सुस्त प्रशासन में लापरवाह हुए लोग

पीएम मोदी ने कहा, इस बार लोग पहले की अपेक्षा बहुत अधिक लापरवाह हो गए हैं और अधिकतर राज्यों में प्रशासन भी सुस्त नजर आ रहा है. ऐसे में कोरोना मामलों की इस अचानक बढ़ोतरी ने मुश्किलें पैदा की हैं. इसके प्रसार को रोकने के लिए फिर से युद्ध स्तर पर काम करना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि इन तमाम चुनौतियों के बावजूद देश के पास पहले की अपेक्षा बेहतर अनुभव और बेहतर संसाधन उपलब्ध हैं.

ये भी पढ़ें:- नक्सलियों ने CRPF के कोबरा जवान Rakeshwar Singh Manhas को छोड़ा, 3 अप्रैल को बनाया था बंधक

‘जितनी ज्यादा जांच, उतना सफल होंगे’

उन्‍होंने कहा कि जनभागीदारी के साथ-साथ हमारे मेहनती डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों ने स्थिति को संभालने में बहुत मदद की है और आज भी कर रहे हैं. पहले हमारे पास ना तो मास्क थे और ना ही पीपीई किट उपलब्ध थी और ना ही संसाधन थे. इसलिए कोरोना से उस समय बचने का एकमात्र साधन लॉकडाउन (Lockdown) बचा था और वह रणनीति काम आई. लेकिन भारत ने लॉकडाउन के समय का उपयोग करते हुए अपनी क्षमता बढ़ाई और संसाधन विकसित किए. आज हमारे पास संसाधन हैं तो हमारा बल छोटे-छोटे निषिद्ध क्षेत्रों पर होना चाहिए. हमें इसके परिणाम मिलेंगे. यह मेहनत रंग लाएगी. उन्होंने कहा, हम जितनी ज्यादा जांच करेंगे उतना सफल होंगे. जांच, संपर्क का पता लगाना, उपचार करना और कोरोना से बचाव संबंधी उपायों को कड़ाई से पालन करना और बेहतर कोविड-19 प्रबंधन पर हमें बल देना है. 

ये भी पढ़ें:- दिल्ली में कोरोना का तांडव, टूटे गए सारे रिकॉर्ड; एक दिन में मिले 7,437 मरीज

24 घंटे में देशभर में मिले 1.26 लाख मरीज

ज्ञात हो कि गुरुवार को भारत में एक दिन में कोविड-19 के 1,26,789 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की कुल संख्या 1,29,28,574 हो गई. वहीं, एक्टिव मरीज भी 9 लाख के पार चले गए हैं. महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, केरल और पंजाब में कोविड-19 के रोजाना मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और देश में सामने आए संक्रमण के 1,26,789 नए मामलों में से 84.21 प्रतिशत मामले इन 10 राज्यों में हैं.

ये भी पढ़ें:- नक्सलियों ने CRPF के कोबरा जवान राकेश्वर सिंह को छोड़ा, 3 अप्रैल को बनाया था बंधक

दुनियाभर में सबसे ज्यादा टीके लगा रहा भारत

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में एक सप्ताह में कोरोना वायरस संक्रमण की दर मार्च और अप्रैल के शुरुआती 7 दिनों की क्रमश: 2.19 से 6.21 प्रतिशत बढ़कर 8.40 प्रतिशत हो गई है. भारत में प्रतिदिन कोविड-19 रोधी टीके की औसतन 34,30,502 खुराकें दी जा रही हैं, जिसके साथ ही देश रोजाना लगाए जाने वाले टीकों की संख्या के मामले में दुनियाभर में पहले स्थान पर पहुंच गया है. सुबह सात बजे तक की रिपोर्ट के अनुसार अब तक 13,77,304 सत्रों में कुल 9,01,98,673 टीके लगाए जा चुके हैं.

LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: