July 27, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

Karnataka की 73 वर्षीय महिला ने Marriage के लिए अखबार में दिया विज्ञापन, कहा, ‘अकेले नहीं बितानी जिंदगी’


मैसूर: कर्नाटक (Karnataka) के मैसूर में रहने वाली एक महिला ने शादी के लिए विज्ञापन दिया है. वैसे, तो विज्ञापन देना आम बात है, लेकिन इस मामले को जो खास बनाता है वो है महिला की उम्र. मेट्रीमोनियल एड (Matrimonial Adv) के जरिए जीवनसाथी की तलाश कर रही इस महिला की उम्र 73 साल है. सरकारी नौकरी से रिटायर्ड महिला के इस फैसले और हौसले की हर तरफ चर्चा हो रही है. लोगों का कहना है कि उम्र के इस पड़ाव में दोबारा घर बसाने का सोचना बहुत बड़ी बात है. 

Social Media पर वायरल

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार, विज्ञापन में महिला ने कहा है कि मैं 73 वर्षीय रिटायर्ड टीचर हूं. मुझे एक स्वस्थ ब्राह्मण दूल्हे की तलाश है, जो मुझसे बड़ा हो. मुझे अपने साथ समय बिताने के लिए एक साथी की जरूरत है. अखबार में प्रकाशित यह विज्ञापन सोशल मीडिया (Social Media) पर भी वायरल हो रहा है. लोग इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं. कुछ ने महिला को शुभकामनाएं दी हैं, तो कुछ ने धोखेबाजी से बचने की सलाह.    

ये भी पढ़ें -कोरोना मरीजों को मानव स्पर्श देने का अनोखा तरीका, Photo दुनियाभर में हुई VIRAL

Family में अब कोई नहीं बचा 

महिला उम्र के इस पड़ाव में खुद को अकेला महसूस कर रही हैं. उन्होंने बताया कि उनके परिवार में अब कोई नहीं बचा है. पति से उनका काफी पहले ही तलाक हो चुका है और माता-पिता की मृत्यु के बाद वह पूरी तरह से अकेली हो गई हैं. महिला के मुताबिक, उन्हें अकेले डर लगता है, इसलिए उन्होंने जीवनसाथी की तलाश शुरू कर दी है. ताकि बाकी की जिंदगी किसी के साथ अपने अनुभव बांटते हुए गुजार सकें. 

इसलिए नहीं की दूसरी Marriage

महिला ने कहा कि उनका शादीशुदा जीवन बेहद दर्द भरा रहा है. शादी में मिले दुख और उसके बाद तलाक की पीड़ा की वजह से उन्होंने काफी दूसरी शादी का नहीं सोचा. लेकिन उम्र के आखिरी पड़ाव में उन्हें एक हमसफर की जरूरत महसूस होती है. जिसके साथ वह अपने सुख, दुख साझा कर सकें. जिसके साथ वह अपना अकेलापन दूर करने के लिए बातचीत कर सकें.     

Youth को पसंद आया Decision

महिला के इस साहसिक कदम को युवाओं द्वारा खासा पसंद किया जा रहा है. उनका मानना है कि 73 वर्ष की उम्र में शादी की इच्छा जाहिर करके महिला ने समाज की सांस्कृतिक रूढ़ियों को तोड़ने का प्रयास किया है. वहीं, एक्टिविस्ट रूपा हसन का कहना है कि महिला को बेहद सावधानी से आगे बढ़ना चाहिए, क्योंकि अपराधी उनकी भावनाओं के साथ खेलकर उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं.  

 





Source link

%d bloggers like this: