August 2, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

Sunanda Pushkar Case में शशि थरूर के खिलाफ आरोप पर कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा


नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) के खिलाफ उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर (Sunanda Pushkar) की मौत के मामले में आरोप तय करने के मामले में सोमवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया. स्पेशल जज गीतांजलि गोयल ने इस मामले में दिल्ली पुलिस और थरूर के वकीलों की दलीलें सुनीं.

दिल्ली पुलिस ने दी ये दलील

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) के खिलाफ उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर (Sunanda Pushkar) की मौत के मामले में अदालत 29 अप्रैल को फैसला सुना सकती है. बहस के दौरान दिल्ली पुलिस ने थरूर के खिलाफ IPC की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) सहित अन्य धाराओं के तहत आरोप तय करने का आग्रह किया. 

शशि थरूर के वकील बोले- कोई सबूत नहीं

वहीं थरूर की ओर से पेश हुए सीनियर वकील विकास पाहवा ने कोर्ट से कहा कि एसआईटी (SIT) द्वारा की गई जांच में शशि थरूर को पूरी तरह निर्दोश माना गया है. पाहवा ने कोर्ट से थरूर को आरोपमुक्त करने की अपील की और कहा कि उनके मुवक्किल के खिलाफ IPC की धारा 498ए (पति या उसके किसी रिश्तेदार द्वारा महिला के साथ क्रूरता) या 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के तहत लगाए गए आरोपों का कोई सबूत नहीं है.

यह भी पढ़ें: West Bengal Election 2021: जब PM मोदी ने कहा-दीदी…ओ दीदी…आदरणीय दीदी…

क्या है मामला

बता दें सुनंदा पुष्कर (Sunanda Pushkar) 17 जनवरी 2014 की रात दिल्ली के एक बड़े होटल में मृत मिली थीं. दिल्ली पुलिस ने थरूर के खिलाफ IPC की धाराओं-498 ए और 306 के तहत मामला दर्ज किया था, लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया था.  पांच जुलाई 2018 को थरूर को जमानत मिल गई थी.

LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: