July 31, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

मध्य प्रदेश में नहीं होगी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी, पहुंची एक और बड़ी खेप, इस अस्पताल से मिलेगी डोज


भोपालः मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों के चलते रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग भी तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में प्रदेश सरकार रेमडेसिविर इंजेक्शन का इंतजाम करने में जुटी है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की समीक्षा बैठक ली जिसमें बताया गया कि बुधवार को प्रदेश में कुल 3,890 यूनिट रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति की गई है. इसके अलावा प्रदेश की अलग-अलग अस्पतालों में 275 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की उपलब्धता कराई गई है. 

इन अस्पतालों को दिए जाएंगे इतने ऑक्सीजन 
3,890 रेमडेसिविर इंजेक्शन में से एक हजार इंजेक्शन एमजीएम शासकीय मेडिकल कॉलेज इंदौर को दिए जाएंगे. जबकि बाकि के 2890 इंजेक्शन निजी चिकित्सालयों को दिए जा रहे हैं. इंजेक्शन के निर्माताओं को मध्यप्रदेश में इनकी सप्लाई बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही इंजेक्शन के अवैध विक्रय, एम.आर.पी से अधिक मूल्य पर विक्रय तथा कालाबाजारी न हो इसके लिए औषधि निरीक्षकों द्वारा निरीक्षण किया जा रहा है. 

ऑक्सीजन की भी लगातार होगी सप्लाई 
प्रदेश सरकार ऑक्सीजन की सप्लाई भी लगातार करने की बात कह रही है. ऑक्सीजन की निर्बाध सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए इसके निर्माताओं और डिस्ट्रीब्यूटर्स से निरंतर संपर्क किया जा रहा है. ऑक्सीजन के औद्योगिक उपयोग को सीमित करके सबसे पहले अस्पतालों को उपलब्ध करवाने की व्यवस्था की जा रही है. इसके अलावा अस्पतालों में ऑक्सीजन का फालतू खर्च रोकने के लिए भारत शासन से प्राप्त दिशा-निर्देशों से संबंधितों को अवगत कराया गया है. ताकि किसी भी प्रकार से ऑक्सीजन की फिजूलखर्ची नहीं होनी चाहिए. ऑक्सीजन के परिवहन को त्वरित बनाने के लिए अनुमति प्राप्त ऑक्सीजन वाहनों को एम्बुलेंस का दर्जा भी दिया गया है. 

गुजरात से हर दिन आ रही  120 मीट्रिक टन ऑक्सीजन
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नियंत्रण और रोगियों के समुचित उपचार के लिए आवश्यकता के अनुरूप ऑक्सीजन, इंजेक्शन और बेड की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल से भी बात हुई है. प्रदेश में ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने पर राउरकेला और भिलाई से रेल द्वारा जरूरत पड़ने पर ऑक्सीजन बुलवाई जा सकेगी. इसके अलावा हिमाचल और महाराष्ट्र से भी ऑक्सीजन आपूर्ति प्राप्त करने के प्रयास किये जा रहे हैं. वर्तमान में गुजरात से रोजाना 120 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बिना बाधा के प्राप्त हो रही है. जरूरी हुआ तो प्रदेश में विभिन्न स्थानों तक इंजेक्शन पहुँचाने के लिए हेलीकॉप्टर का उपयोग किया जाये. 

ये भी पढ़ेंः कोरोना कहर के बीच MP के इस शहर में बन रहा 2000 बेड वाला कोविड सेंटर, यहां जानें खासियत

सावधानी बरतने के निर्देश 
इसके अलावा कोरोना की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है. सीएम ने कहा कि जनता के सहयोग के बिना कोरोना से जंग नहीं जीती जा सकती कोरोना संक्रमण को समाप्त करने के लिए हर व्यक्ति को जागरूक करना आवश्यक है. सभी लोगों को यह समझना होगा कि मास्क लगाना, 2 गज की दूरी रखना, बार-बार हाथों को धोना तब तक बहुत जरूरी है, जब तक कोरोना पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है.

एमपी में फिर मिले कोरोना के 9720 नए मरीज
मध्य प्रदेश में कोरोना से हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं. बुधवार को भी राज्य में कोरोना के 9720 नए मरीज मिले. जिसके बाद कुल मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 49551 हो गया है. गौरतलब है कि राज्य में पॉजिटिविटी दर भी 21.07 हो गई है. आज राज्य में कोरोना से 51 मरीजों की मौत हुई है. 

ये भी पढ़ेंः MP में कोरोना मरीजों की संख्या 50 हजार के करीब पहुंची, इंदौर-भोपाल में हालात खराब, इतनी हुई मौतें

WATCH LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: