Oxygen Crisis: देश में क्यों आया सांसों का संकट, इस Ground Report से समझिए असली वजह


नई दिल्ली: हमारे देश में नेताओं के नाम के पत्थर जरूरी हैं या लोगों के लिए बुनियादी सुविधाएं? आज हम ये सवाल इसलिए उठा रहे हैं क्योंकि नेताओं के नाम के पत्थरों का रखरखाव तो हो जाता है, लेकिन अस्पतालों में बनाए गए ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) की सुध कोई नहीं लेता. अगर आज गाजियाबाद (Ghaziabad) के सरकारी अस्पताल में खराब पड़ा ऑक्सीजन प्लांट ठीक से काम कर रहा होता तो मरीजों के लिए ‘बाहर से सांस’ नहीं मंगवानी पड़ती.

2008 में शुरू हुआ अस्पताल

हम बात कर रहें हैं उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में बने कंबाइंड डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल की, जिसकी शुरुआत साल 2008 में पूर्व सीएम मायावती ने की थी. सरकार बदलने के बाद अस्पताल का विस्तार किया गया तो उसका श्रेय देने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नाम का पत्थर लगा दिया गया. और कोरोना संकट में 100 बेड के इस अस्पताल को कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया गया. 

रोजाना बन सकती है 15 सिलेंडर ऑक्सीजन

इसके लिए अस्पताल में एक ऑक्सीजन प्लांट भी लगाया गया, लेकिन ये ऑक्सीजन प्लांट भी सरकारी उदासीनता की भेंट चढ़ गया. जिस ऑक्सीजन प्लांट से रोजाना करीब 15 सिलेंडर ऑक्सीजन बनाई जा सकती थी, वो पिछले काफी समय से खराब पड़ा हुआ था. अब जब इस अस्पताल को भी ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी, तब जाकर अस्पताल प्रशासन को इस प्लांट की याद आई और अब जाकर इसको ठीक करवाने की कवायद शुरू की गई है. 

अभी भी 100 से ज्यादा मरीजों का चल रहा इलाज

हमारे संवाददाता प्रमोद शर्मा जब पड़ताल के लिए इस अस्पताल में दाखिल हुए तो पता चला कि इस वक्त भी 100 से ज्यादा कोरोना के मरीजों का हॉस्पिटल में इलाज किया जा रहा है, जिन्हें ऑक्सीजन देने के लिए सिलेंडर बहार से मंगवाए जाते हैं. ऐसे में सवाल उठा रहा है कि अस्पताल की इस लापरवाही का जिम्मेदार कौन है, जिसने अस्पताल के अंदर मरीजों की सांसो को सालों साल रोके रखा. 

प्लांट ठीक होने में लगेगा 2-3 दिन का समय

वहीं इस प्लांट को ठीक करने आए इंजीनियर आकाश सोनी का मानना है कि सही रख रखाव ना होने की वजह से ये ऑक्सीजन प्लांट खराब पड़ा था जिसको पूरी तरह ठीक होने में अभी भी दो से तीन दिन लग जाएंगे. यानी अगले दो दिन में भले ही इस अस्पताल का ये ऑक्सीजन प्लांट पूरी तरह ठीक हो जाएगा, लेकिन सरकारी अफसर और नेताओं का वो रवैया कब ठीक होगा जिसकी वजह से उनको मरीजों की सांसो से ज्यादा चिंता अपने नाम के पत्थरों की है.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.