एंबुलेंस ड्राइवर ने कोरोना पीड़ित से 25 KM के लिए वसूले 42 हजार रुपये


नोएडा: पूरे देश में कोरोना संक्रमण तेजी से अपने पैर पसारता जा रहा है. रोजाना बड़ी संख्या में संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं. कोरोना के इस दौर में भी कुछ लोग दूसरों की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं. ऐसी ही एक खबर नोएडा से सामने आई है, जहां एक एंबुलेंस ड्राइवर ने कोरोना पीड़ित परिवार से 25 किमी दूरी के 42 हजार रुपये किराया ले लिया. 

कहां का है मामला
दरअसल, नोएडा सेक्टर-50 के रहने वाले असित कोरोना संक्रमित थे. लेकिन अचानक से उनकी तबियत बिगड़ने लगी. ऑक्सीजन लेवल कम होने लगा. जिसपर हॉस्पिटल ले जाने के लिए उनके छोटे भाई ने प्राइवेट एंबुलेंस ड्राइवर को फोन किया. एक एंबुलेंस आ गई, लेकिन उसने किराये के रूप में 44 हजार रुपये मांगे. असित की तबियत बिगड़ती जा रही थी, इसलिए किराए को लेकर मोलभाव नहीं किया. इस दौरान ग्रेटर नोएडा के कई बड़े अस्पतालों में चक्कर लगाए, लेकिन कहीं भी बेड नहीं मिला. जिसके बाद अंत में यथार्थ हॉस्पिटल में बेड मिला तो वहां एडमिट कर दिया गया. 

पुलिस से की शिकायत 
जब असित का भाई ड्राइवर को किराए के पैसे देने लगा तो उसने कहा कि केवल 25 किमी के 44 हजार रुपये ले रहे हो. इस पर चालक ने कहा ज्यादा से ज्यादा 2 हजार रुपये कम कर सकता हूं. जिसके बाद उसने ड्राइवर को 42 हजार रुपये पेमेंट कर दिया. इसके बाद असित के भाई ने तुरंत नोएडा पुलिस को इस मामले की शिकायत की. 

नोएडा पुलिस ने वापस दिलाए पैसे 
शिकायत पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस के नंबर के जरिए ड्राइवर को ढूंढ़ निकाला. वहीं, जब पुलिस ने 25 किमी के 42 हजार रुपये लेने की बात पूछी तो ड्राइवर की बोलती बंद हो गई. हालांकि, पुलिस के समझाने पर उसने अपनी गलती मान ली और पेमेंट के पैसे वापस कर दिए. 

मदद के लिए जारी किया हेल्पलाइन नंबर 
आपको बता दें कि गौतमबुद्ध नगर के पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ( Police commissioner ) ने कोविड पीड़ित मरीजों और उनके परिवार वालों की सुविधा के लिए ट्रैफिक पुलिस की कोविड अस्पतालों के पास ड्यूटी लगाई है. ताकि अगर कोई एंबुलेंस वाला आपसे ज्यादा किराया मांग रहा है तो हॉस्पिटल के बाहर तैनात ट्रैफिक पुलिस से आप मदद ले सकें. अगर वहां कोई पुलिसकर्मी नहीं है तो आप हेल्पलाइन नंबर 9971-009001 पर फोन भी कर सकते हैं. 

WATCH LIVE TV

 



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.