CM योगी आदित्यनाथ का कोविड केयर फंड में सहयोग, विधायक निधि से दिए 1 करोड़ रुपये


लखनऊ: कोरोना वायरस संक्रमण की नई लहर ने विकराल रूप ले लिया है. यूपी में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. कई जगहों से ऑक्सीजन की किल्लत, अस्पताल में बेड्स की कमी को लेकर खबरें सामने आ रही हैं. प्रदेश सरकार लगातार इसको लेकर काम कर रही है. इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अपनी विधायक निधि से एक करोड़ रुपये की धनराशि कोविड केयर फंड के लिए दान की है. 

बृजेश पाठक भी कर चुके हैं सहयोग
बता दें कि सीएम योगी से पहले यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री और लखनऊ मध्य विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक बृजेश पाठक (Brijesh Pathak) ने अपनी विधायक निधि से एक करोड़ रुपये कोविड-19 की जंग में दान दिए हैं. इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ रुपए सहयोग के रूप में दिए हैं.

ये भी पढ़ें- रोते-बिलखते कोतवाली पहुंचे सगे भाई, बोले- साहब हमें हमारी बीवियों से बचा लो

सीएम योगी ने दिए तत्काल 33 हजार बेड बढ़ाने के निर्देश
सीएम योगी ने कोविड अस्पतालों में 33 हजार बेड और बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. प्रदेश में कोरोना के L-1, L-2, L-3 के अस्पतालों में करीब 1 लाख 80 हजार बेड हैं, बावजूद इसके बेड की कमी की खबरें सामने आ रही हैं, तो सीएम योगी ने इसे गंभीरता लिया है. सीएम योगी ने स्वास्थ्य विभाग को 15 हजार बेड और चिकित्सा शिक्षा विभाग को 18 हजार बेड तत्काल बढ़ाने की जिम्मेदारी दी है. 15 हजार बेड के सापेक्ष अब प्रदेश के सभी 75 जिलों में तत्काल 200 बेड बढ़ाए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- UP और मध्यप्रदेश के बीच चलने वाली बसों पर रोक, इतने दिनों तक आवागमन रहेगा बंद

 

UP कोरोना अपडेट 
गुरुवार को उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने जानकारी देते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के कुल 35,156 नए मामले सामने आए हैं. जबकि पिछले 24 घंटे में 258 लोगों की मृत्यु हुई है. हालांकि इस दौरान 25,613 लोग डिस्चार्ज भी हुए हैं. प्रदेश में वर्तमान में सक्रिय मामलों की संख्या 3,09,237 है. 

ये भी देखें- Viral ViDEO: लड़की ने की गाय पर सवार होने की कोशिश, देखिए हुआ कैसा हाल

WATCH LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.