June 20, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत ने बदली रणनीति, China-Pakistan ने गड़बड़ की तो देगा करारा जवाब: खुफिया रिपोर्ट


वॉशिंगटन: अमेरिका का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के नेतृत्व में भारत ने चीन और पाकिस्तान के खिलाफ अपना पारंपरिक रवैया छोड़ दिया है. अब उसने इन दोनों देशों को वास्तविक खतरा समझकर ‘जैसे को तैसा’ की रणनीति अपना ली है.

अमेरिकी खुफिया प्रमुख ने दी रिपोर्ट

अमेरिका की डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी (Defence Intelligence Agency) के डायरेक्टर जनरल स्कॉट बेरियर (Scott Berrier) ने कहा, ‘भारत ने आक्रामक चीन के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है. भारत ने वर्ष 2020 में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद महासागर क्षेत्र में अपनी ताकत और प्रभाव को प्रदर्शित करने के लिए मुखर विदेश नीति को अपनाया.’ स्कॉट बेरियर ने सीनेट की सशस्त्र सेवा सेवा समिति के सदस्यों को दुनियाभर में खतरों की जानकारी देते हुए यह बात कही. 

‘भारत की ‘जैसे को तैसा’ की रणनीति’  

स्कॉट बेरियर ने कहा कि भारत अब अपने दुश्मनों से निपटने के लिए ‘जैसे को तैसा’ की रणनीति पर चल रहा है. वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर 2020 में दोनों देशों में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत ने आक्रामक चीन के प्रति सख्त रुख अख्तियार कर लिया. इस घटना के बाद नई दिल्ली ने चीन (China) के खिलाफ सख्त रुख अपनाते हुए सीमा पर अपने 40 हजार जवान, टैंक, लड़ाकू विमान आदि तैनात कर दिए. इसके साथ ही अदन की खाड़ी में घूम रहे चीनी पोतों पर नजर रखने के लिए अपने युद्धपोत समुद्र में भेज दिए. चीन को आर्थिक मोर्चे पर जवाब देने के लिए भारत ने उसके कई मोबाइल ऐप्स भी बैन किए.  

‘पाकिस्तान की गलती उसे भारी पड़ेगी’

स्कॉट बेरियर  (Scott Berrier) ने भारत-पाकिस्तान संबंधों के बारे में भी सीनेट सदस्यों को जानकारी दी. बेरियर ने कहा कि पीएम मोदी (Narendra Modi) की लीडरशिप में भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ अपने स्टैंड को और सख्त कर लिया. भारत ने कहा कि जब तक आतंकियों को शह बंद नहीं होगी, तब तक कोई वार्ता नहीं होगी. इस दौरान भारत ने जम्मू-कश्मीर से न केवल विशेष दर्जा खत्म किया बल्कि पुलवामा अटैक के बाद पाकिस्तान पर कार्रवाई भी की. उन्होंने कहा कि इस साल फरवरी में दोनों देश सीजफायर के लिए सहमत हो गए हैं लेकिन अगर फिर कोई हमला होता है तो पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ भारत कड़ी सैन्य प्रतिक्रिया कर सकता है. 

‘दुनिया को अपनी क्षमता दिखा रहा भारत’

डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी (Defence Intelligence Agency) के चीफ ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत अब दुनिया में अपनी वैश्विक नेतृत्व क्षमता दिखा रहा है. उसने कोरोना महामारी के दौर में पूरे दक्षिण एशिया, अफ्रीका और और मध्य पूर्व के देशों में मेडिकल सप्लाई पहुंचाई. जिससे लाखों लोगों को इस महामारी से बाहर निकलने में मदद मिली. वह घरेलू रक्षा उत्पादन पर जोर देते हुए लगातार अपनी वायु सेना, थल सेना और नौसेना में रणनीतिक परमाणु बलों को शामिल करके सैन्य आधुनिकीकरण कर रहा है. 

‘अपनी रक्षा क्षमता को दे रहा है मजबूती’

बेरियर  (Scott Berrier) ने कहा कि भारत ने पिछले साल सितंबर से लेकर अब तक करीब एक दर्जन परीक्षणों के साथ हाइपरसोनिक, बैलिस्टिक, क्रूज और एयर डिफेंस मिसाइलों का परीक्षण किया है. स्कॉट बेरियर ने अमेरिकी सांसदों को बताया कि भारत अंतरिक्ष में अपनी सैटेलाइट्स की संख्या बढ़ा रहा है. भारत अंतरिक्ष में अपनी क्षमता का इस्तेमाल अपनी सैन्य रणनीति को मजबूत बनाने में करेगा. भारत मार्च 2019 में (एंटी-सैटेलाइट) मिसाइल ASAT का सफलतापूर्वक परीक्षण कर चुका है. भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति में ASAT हथियारों की भूमिका को बढ़ाने की योजना है. 

ये भी पढ़ें- LAC पर चीन ने तैनात कर रखी हैं HQ 9 और HQ 22 मिसाइलें, भारत ने भी मजबूत की सैन्य तैनाती

‘भारत-रूस के संबंध मजबूत बने रहेंगे’

भारत-रूस के संबंधों के बारे में जानकारी देते हुए स्कॉट बेरियर  (Scott Berrier) ने कहा कि दोनों देशों के संबंध मजबूत बने रहेंगे. भारत के बेड़े में रूसी हथियारों की भरमार रहेगी. रूस भी चाहेगा कि वो भारत को घरेलू रक्षा उद्योग को मजबूत करने के लिए मदद करता रहे. रूस भारत के घरेलू रक्षा उद्योग को मजबूत करने और उसे नई तकनीक प्रदान करने में भी मदद करेगा. 

LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: