June 20, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

China का अवैध ‘Blind Boxes’ ट्रेंड बन रहा बेजुबानों का काल, छोटे डिब्बों में बंद करके बेचे जा रहे Animals


बीजिंग: दुनिया को कोरोना (Coronavirus) महामारी में धकेलने वाला चीन (China) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. अब चीन में एक नया ट्रेंड चल निकला है, जो बेजुबानों (Animals) की मौत की वजह बन रहा है. हालांकि, इसके बावजूद कम्युनिस्ट सरकार कोई सख्त कदम उठाने को तैयार नहीं है. सोशल मीडिया पर चीन के ‘ब्लाइंड बॉक्स’ ट्रेंड की काफी आलोचना हो रही है. लोग खुलकर इसके विरोध में उतर आए हैं.   

Online हो रही बिक्री

हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में छपी खबर के अनुसार, चीन में पिछले कुछ वक्त से ‘ब्लाइंड बॉक्स’ (Blind Boxes) ट्रेंड चल रहा है. इसमें पालतू जानवरों (Pets) को एक छोटे से बॉक्स में बंद करके भेजा जाता है. इन बॉक्स में रोशनी या हवा आने की कोई जगह नहीं होती, इसलिए इन्हें ब्लाइंड बॉक्स कहा जाता है. लोग ऑनलाइन पेट्स ऑर्डर करते हैं, लेकिन जब तक वो उनके पास पहुंचते हैं, अधिकांश भूख-प्यास और घुटन से मर चुके होते हैं. 

ये भी पढ़ें -अपनी Embassies के कामकाज से इस कदर नाराज हुए Imran Khan, दे डाली India से सीख लेने की नसीहत

Volunteers ने किया खुलासा

इस क्रूर और अमानवीय ट्रेंड के बारे में तब पता चला जब दक्षिण-पश्चिमी शहर चेंगदू (Chengdu) के कुछ वॉलेंटियर्स को एक लकड़ी के बॉक्स में 160 बिल्ली और कुत्ते के बच्चे मिले. इनमें से कई जानवर पहले ही मर चुके थे. एनिमल रेस्क्यू सेंटर ने बताया कि जब कूरियर मिला, तो उसमें से जानवरों के रोने की आवाज आ रही थी. जैसे ही उसे खोलकर देखा सभी हैरान रह गए. 

बाकायदा दे रहे Advertisements

एनिमल रेस्क्यू सेंटर के मुताबिक, बेजुबानों को डिब्बे में बंद करके उसे पूरी तरह से पैक कर दिया जाता है. ऐसे में दम घुटने की वजह से उनकी मौत हो जाती है. ऑनलाइन कई लोग इस तरह से जानवर बेच रहे हैं और उन्हें खरीदने वालों की भी कमी नहीं है. बायर को लुभाने के लिए बाकायदा विज्ञापन भी दिए जा रहे हैं. जैसे, ‘प्योरब्रीड डॉग एंड कैट केवल $1.50 में उपलब्ध हैं’. 

अवैध खेल पर China खामोश

बेजुबानों को खिलौना समझने वाले चीन में वैसे तो कूरियर के माध्यम से जीवित पालतू जानवर भेजना अवैध है, लेकिन खुलेआम कानून तोड़ा जा रहा है और सरकार खामोश है. बता दें कि चीन में बड़े पैमाने पर कुत्तों का मांस खाया जाता है. हालांकि, कोरोना वायरस की उत्पत्ति को देखते हुए सरकार ने पिछले साल इस पर रोक की दिशा में कदम उठाए थे, पर चोरी-छिपे अब भी इन बेजुबानों को मौत के घाट उतारा जा रहा है.

 





Source link

%d bloggers like this: