June 19, 2021

Sirfkhabar

और कुछ नहीं

Jammu Kashmir: नॉन-कोविड मरीजों के लिए बड़ी पहल, शेर ए कश्मीर इंस्टिटयूट में बनाया गया Tele Clinic


श्रीनगर: कोरोना महामारी (Coronavirus) ने धरती की जन्नत कही जाने वाली कश्मीर घाटी को भी अपनी गिरफ्त में ले रखा है. महामारी की वजह से कश्मीर के सभी अस्पतालों में सामान्य ओपीडी बंद चल रही है.

शेर ए कश्मीर इंस्टिटयूट में शुरू हुआ टेली क्लिनिक

परेशान मरीजों को राहत देने के लिए श्रीनगर (Srinagar) के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल शेर ए कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिस (Shere A Kashmir Institute) ने टेली क्लिनिक (Tele Clinic) शुरू किया है. इस टेली क्लिनिक में रोजाना करीब 400 मरीजों का इलाज किया जा रहा है. इस टेली क्लिनिक में बैठे डॉक्टर टेली कंसल्टेशन के जरिए लोगों से बीमारी पूछकर मेडिकल एडवाइस दे रहे हैं. डॉक्टरों की इस पहल से कोविड और नॉन-कोविड दोनों प्रकार के मरीजों को काफी राहत मिल रही है. 

बताते चलें कि टेली कंसल्टेशन एक ऐसी सुविधा है. जिस में एक डॉक्टर फोन के जरिए मरीज को अपनी सेवा दे सकता है. शेर ए कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिस में हर रोज करीब 30 डॉक्टरों की टीम रोजाना सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक ड्यूटी करती है. 

वेबसाइट पर जारी किए गए डॉक्टरों के नंबर

इस डयूटी का पूरा शेड्यूल अस्पताल की ओर से सावर्जनिक किया गया है. इसके लिए टेलीफोन नंबर भी जारी किया गया है. इच्छुक मरीज इस नंबर पर कॉल करके डॉक्टरों से सलाह लेते हैं. इस टेली क्लिनिक (Tele Clinic) में सभी बीमारियों के डॉक्टर रोस्टर के हिसाब से रहते हैं. उनकी पूरी कोशिश रहती है कि कॉल करने वाला मरीज संतुष्ट हो. अगर किसी मरीज को फिजिकल जांच की जरूरत होती है तो उन्हें अस्पताल टाइम देकर बुलाया जाता है. अस्पताल के बाहरी परिसर में उसका इलाज किया जाता है. डॉक्टर यहीं पर पोस्ट कोविड मरीजों का भी इलाज करते हैं. 

सुबह 10 से 4 बजे तक चलता है टेली क्लिनिक

डॉक्टर सईद इफ्तिकार कहते हैं, ‘जो मरीज ओपीडी बंद होने के कारण मुश्किलों में हैं. हम उनकी तकलीफों को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं. हमारा सुबह 10 से 4 बजे तक रोस्टर बना रहता है. हर प्रकार के डॉक्टर यहां आते हैं. हर किसी के पास फोन रहता है. अस्पताल की वेबसाइट पर भी हमारा फोन नंबर उपलब्ध है. कोई भी हमें फोन करके बात कर सकता है. फिलहाल करीब 350-400 लोगों के रोज कॉल आ रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- Corona: Kashmir में अब नहीं होगी ‘सांसों की किल्लत’, सेना ने रिकॉर्ड 4 दिनों में शुरू किया Oxygen Plant

नॉन-कोविड मरीजों को हो रहा है फायदा

डॉक्टरों का कहना है कि इस महामारी (Coronavirus) के दौर में हम पूरी कोशिश कर रहे है कि जो मरीज कोविड के बजाय दूसरी बीमारी से पीड़ित है. उसे भी इलाज मिले और वह अस्पताल से दूर भी रहे. डॉक्टर समीर कहते हैं, ‘कोशिश है कि इस महामारी में भी लोगों तक उपचार पहुंचता रहे. ऐसे में यह टेली क्लिनिक (Tele Clinic) काफी कारगर साबित हो रहा है. काफी लोग रोजाना इस सेवा का लाभ उठा रहे हैं. 

LIVE TV





Source link

%d bloggers like this: