वीर सावरकर की मानी गई होती तो देश का नहीं होता विभाजन: सीएम योगी आदित्यनाथ


लखनऊ: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने शुक्रवार को कहा कि अगर विनायक दामोदर सावरकर (CM Yogi Adityanath Latest Speech on Veer Savarkar) की बात मानी जाती तो देश का विभाजन नहीं होता. अफसोस इस बात का है कि देश में जानबूझकर उन्हें पर्याप्त सम्मान नहीं दिया गया. 

किताब का विमोचन कर रहे थे सीएम

सीएम योगी (Yogi Adityanath) शुक्रवार को लखनऊ में वीर सावरकर (Veer Savarkar) पर लिखी किताब ‘सावरकर- एक भूले बिसरे अतीत की गूंज’ के विमोचन समारोह (CM Yogi Adityanath Latest Speech on Veer Savarkar) को संबोधित कर रहे थे. सीएम ने कहा, ‘देश में जब भी वीर सावरकर की चर्चा होती है तो दो धाराएं देखने को मिलती हैं. एक धारा जो भारत को दुनिया में सबसे बड़ी ताक़त के तौर पर देखना चाहती है. उनके मन में उत्साह और उमंग होता है. वहीं दूसरी धारा वह है, जो भारत को भारत नहीं रहने देना चाहती. उनके मन में निराशा और हताशा के लिए वीर सावरकर का नाम पर्याप्त है.’

‘वे भारत माता के सच्चे सपूत थे’

सीएम योगी (Yogi Adityanath) ने कहा, ‘वीर सावरकर (Veer Savarkar) का नाम आने से हम लोगों के लिए उत्साह इसलिए आता है क्योंकि पिछले समय में उनसे बड़ा देशभक्त, दार्शनिक, लेखक और कवि कोई नहीं हुआ. भारत माता के वे सच्चे सपूत थे, जिन्होंने देश के लिए दो दो कारावास की सज़ा भुगती थी. उनका लखनऊ और गोरखपुर से भी संबंध था. मेरे पूज्य दिग्विजयनाथ जी हिंदू महासभा के अध्यक्ष थे. उनका वीर सावरकर के साथ बहुत अच्छा संबंध था.’

‘वीर सावरकर के साथ नहीं हुआ न्याय’

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि इतिहास में वीर सावरकर के साथ न्याय नहीं किया गया. ये भारत के हरेक उस महापुरुष के साथ हुआ है, जिसने भारत को नई सोच दी. आज भारत जिन मुद्दों के साथ आगे बढ़ रहा है, उन सब बातों को सावरकर ने 100 साल पहले उठाया था. उन्होंने कहा कि अगर सावरकर की बात मानी गई होती तो देश का कभी विभाजन नहीं होता. हमारा देश कभी आतंकवाद के प्रभाव में नहीं आता.

‘सावरकर का किया गया अपमान’

उन्होंने कहा कि आजाद भारत में अगर तत्काल वीर सावरकर (Veer Savarkar) को सम्मान देने का काम किया गया होता तो ये समस्याएं देखने को नहीं मिलती. सीएम योगी ने कहा, मैं जब सांसद था तो देश के एक केन्द्रीय मंत्री ने सेल्युलर जेल में वीर सावरकर की प्रतिमा को हटा दिया गया था. इस पर बड़ा विवाद खड़ा हुआ था. वीर सावरकर के ख़िलाफ बोला गया था, उनका अपमान किया गया था.

‘हिंदुत्व शब्द सावरकर की देन’

सीएम योगी (Yogi Adityanath) ने कहा कि आज़ादी के अमृत महोत्सव के मौक़े पर महान क्रांतिकारी वीर सावरकर का स्मरण बहुत ख़ास है. चाटुकार इतिहास जब सिपाही विद्रोह कहकर बता रहे थे, तब विदेशी धरती पर बैठकर सावरकर ने कहा था कि ये भारत का स्वतंत्रता संग्राम है. व्याकरण के बहुत से शब्द वीर सावरकर की देन है, उसमें से एक हिंदुत्व शब्द भी है.

ये भी पढ़ें- Kerala: इस यूनिवर्सिटी में नए सिलेबस पर विवाद, लगा भगवाकरण का आरोप; जानिए क्या है पूरा मामला

‘भगवान राम को बताया गया काल्पनिक’

मुख्यमंत्री योगी (Yogi Adityanath) ने कहा कि 2004-05 में भी कई लोग वीर सावरकर (Veer Savarkar) का विरोध कर रहे थे. उनका असल निशाना भारत था. उन्हीं लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था भगवान श्री राम काल्पनिक पात्र हैं. वे लोग भारत को कहां ले जाना चाहते थे. सीएम ने कहा कि वीर सावरकर महान थे और उनकी महानता शब्दों की मोहताज नहीं बन सकती.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *