‘दिल्ली में लालू को बंधक बनाकर रखा’, तेज प्रताप ने इशारों में तेजस्वी पर साधा निशाना


नई दिल्ली: राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के सबसे बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने शनिवार को अपनी पार्टी या परिवार के सदस्‍यों का नाम लिए बिना निशाना साधा है. उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ लोग पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का सपना देख रहे हैं और इसी कारण से उनके पिता को दिल्ली में ऐसे लोगों ने बंधक बनाकर रखा हुआ है.

‘लालू यादव को दिल्ली में बनाया बंधक’

तेज प्रताप यादव ने कहा, ‘मेरे पिता (लालू प्रसाद यादव) अस्वस्थ हैं. पार्टी में 4-5 लोग हैं जिन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का सपना देखा है. उन्हें नाम देने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह सभी को पता है. करीब एक साल पहले उन्हें जेल से रिहा किया गया था, लेकिन दिल्ली में बंधक बना लिया गया है. मैं अपने पिता को पटना लेकर आना चाहता हूं, उनके साथ रहना चाहता हूं, मगर कुछ लोग उन्हें दिल्ली में बंधक बनाकर रखे हुए हैं.’

इशारों में तेजस्वी यादव पर लगाए आरोप

मालूम हो कि तेजप्रताप बीते 3 महीने से नेता प्रतिपक्ष और अपने बड़े भाई तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के खिलाफ खुलकर बोल रहे हैं. लालू ने जब उन्हें दिल्ली बुलाकर समझाया तो कुछ दिन शांत रहे. छात्र राजद के समानांतर अपना संगठन बनाया और अब फिर मुखर हो गए. लेकिन दोनों भाईयों के बीच संबंध फिर बिगड़ गए हैं. ऐसे में तेज प्रताप ने शनिवार को इशारों-इशारों में तेजस्वी पर जो हमला बोला है वह अब तक का उनका अपने छोटे भाई पर सबसे बड़ा हमला और आरोप है.

ये भी पढ़ें:- ZEE के ऐतिहासिक 29 साल: कंपनी के CEO & MD पुनीत गोयनका ने कहा- हमारा बेस्ट अभी बाकी

दिल्ली से ही काम कर रहे हैं लालू यादव

बताते चलें कि चारा घोटाला के आरोपी लालू प्रसाद यादव इन दिनों जमानत पर जेल से बाहर आ गए हैं. लेकिन कोरोना महामारी की वजह से वह बिहार में ज्यादा समय तक नहीं रुके और इस वक्त देश की राजधानी दिल्ली में ही रह रहे हैं. यहीं से लालू केंद्र पर निशाना साधते हैं, विपक्ष के नेताओं से मिलते हैं और आरजेडी के सुप्रीमों होने के नाते पार्टी के कई कार्यक्रमों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ते हैं. लेकिन अब उनके बड़े बेटे ने उनके बिहार न लौटने पर सवाल उठाए हैं जो काफी गंभीर हैं. 

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *