लखीमपुर में शुरू हुआ ‘सियासी पर्यटन’, हिंसा के बाद ये विपक्षी नेता करेंगे दौरा


लखीमपुर खीरी : उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा के बाद विपक्षी दलों को सियासत चमकाने का एक और मौका मिल गया है. इस घटना में 8 लोगों की मौत के बाद कांग्रेस, सपा, टीएमसी से लेकर तमाम विपक्षी दल राज्य सरकार को निशाने पर ले रहे हैं. अब इस कड़ी में कई विपक्षी नेता सोमवार को लखीमपुर खीरी का दौरा करेंगे और पीड़ितों से मुलाकात कर सकते हैं.

लखीमपुर पहुंचेंगे कई विपक्षी नेता

इस घटना के बाद प्रियंका गांधी भी लखनऊ पहुंच चुकीं हैं और सोमवार सुबह तक वह भी लखीमपुर पहुंचेंगीं. साथ ही उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा देश के किसानों से कितनी नफ़रत करती है? उन्हें जीने का हक नहीं है? यदि वे आवाज उठाएंगे तो उन्हें गोली मार दोगे, गाड़ी चढ़ाकर रौंद दोगे? बहुत हो चुका. ये किसानों का देश है, भाजपा की क्रूर विचारधारा की जागीर नहीं है.’

इसके अलावा किसानों के परिवार से मिलने रालोद प्रमुख जयंत चौधरी भी सोमवार को लखीमपुर पहुंचेंगे. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘किसान का खून बहाया गया है! कल #lakhimpurkheri पहुंचूंगा’ 

लखीमपुर का मामला अब सिर्फ UP तक सीमित नहीं रह गया है. इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ के सीएम ने भी ट्वीट किया, ‘किसान हूं, किसान का दर्द समझता हूं. इन कठिन परिस्थितियों में उनके साथ खड़े होने के लिए कल सुबह लखीमपुर जाऊंगा.’  

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत रविवार को अपने अनेकों समर्थकों के साथ लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो गए. साथ ही राकेश टिकैत ने रवाना होने से पहले जनता से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की थी.

इस मामले पर यूपी के पूर्व सीएम व सपा प्रमुख अखिलेश यादव भी सोमवार को लखीमपुर जा सकते हैं. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है, ‘कृषि कानूनों का शांतिपूर्ण विरोध कर रहे किसानों को भाजपा सरकार के गृह राज्यमंत्री के पुत्र द्वारा, गाड़ी से रौंदना घोर अमानवीय और क्रूर कृत्य है. उप्र दंभी भाजपाइयों का ज़ुल्म अब और नहीं सहेगा. यही हाल रहा तो उप्र तो उप्र में भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे, न उतर पाएंगे.’

इनके अलावा TMC के भी 5 नेता और पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा भी सोमवार को लखीमपुर का दौरा करेंगे.

LIVE TV 



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.