बीजेपी की असलियत पहचान गई जनता,अब झूठे जुमलों में नहीं फंसेगी- अमित जोशी,आप उपाध्यक्ष


देहरादून: आप उपाध्यक्ष अमित जोशी ने एक प्रेस बयान जारी करते हुए बीजेपी की राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के शीर्ष नेता ने उत्तराखंड दौरे पर प्रदेश के युवाओं को उद्योगों में 80 प्रतिशत आरक्षण देने की बात कही थी. इसके बाद अब बीजेपी भी आप पार्टी के नक्शेकदम पर चलते हुए प्रदेश के युवाओं को 70 फीसदी आरक्षण देने के मामले में सख्ती की बात कर रही है.

उन्होंने कहा कि ,जब से आप पार्टी ने उत्तराखंड में अपनी दस्तक दी है ,तब से ही अन्य राजनीतिक दलों को काम की राजनीति करने के लिए मजबूर होना पड रहा है.आप पार्टी की घोषणाओं के बाद राज्य के मुख्यमंत्री ,अब आप के मुद्दों को लेकर घोषणाएं कर रहे हैं.  रुद्रपुर दौरे के दौरान धामी जी ने कहा कि, उत्तराखंड के उद्योगों में 70 प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने के नियम का सख्ती से पालन कराया जाएगा. धामी जी ने कहा कि उनकी सरकार स्थानीय युवाओं को रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध है.

आप उपाध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री धामी बताएं कि 70 प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने की बात भाजपा सरकार को आखिर इतनी देर से क्यों याद आई ? साढ़े चार साल तक भाजपा की सरकार कहां सोई हुई थी ? जब औद्योगिक इकाइयों से उत्तराखंड के युवाओं को निकाला जा रहा था, कोरोना काल में उन्हें बेरोजगार किया जा रहा था, तब भाजपा की सरकार क्या कर रही थी?

पुष्कर सिंह धामी की ताजपोशी को 3 महीने हो चुके हैं ,लेकिन तब उन्हें युवाओं की याद नहीं आई और चुनाव नजदीक आते ही उन्हें युवाओं को रोजगार देने की याद सता रही है। आप उपाध्यक्ष ने आगे कहा कि, अब विधानसभा चुनाव में पांच महीने से भी कम समय रह गया है ,और सिर्फ जनता को गुमराह करने और मीडिया में सुर्खियां बटोरने के लिए इस तरह की हवा हवाई बातें मुख्यमंत्री धामी कर रहे हैं. उन्होंनें कहा कि, प्रदेश के मुखिया का युवाओं को स्थानीय उद्योगों में 70 प्रतिशत आरक्षण देने का मतलब है कि, उनसे पहले रहे मुख्यमंत्रियों ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया , और अगर वाकई में इन साढे चार सालों में बीजेपी सरकार ने 70 प्रतिशत रोजगार यहां के स्थानीय युवाओं को दिया होता ,तो आज मुख्यमंत्री को ये बात कहने के लिए बाध्य नहीं होना पडता.

उन्होंने कहा कि, बीती 19 सितंबर को हल्द्वानी दौरे के दौरान पहुंचे अरविंद केजरीवाल ने यहां बढ रही बेरोजगारी को खत्म करने के लिए 6 महत्वपूर्ण घोषणाएं की थी, जिसके बाद से ही कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही दलों की नींदें हराम हो गई हैं. अरविंद केजरीवाल की इस घोषणा का दोनों ही दल कोई तोड नहीं ढूंढ पा रहे हैं. 

उन्होंने आगे कहा कि ,हमने बिजली मुफ्त देने की बात की तो बीजेपी के मंत्री ने भी मु्फत बिजली देने की बात की हालांकि मुख्यमंत्री ने बाद में यह कह कर पल्ला झाड दिया था कि, यह सरकार के बस की बात नहीं है.  हमने उत्तराखंड को आध्यात्मिक राजधानी बनाने की बात की, तो मुख्यमंत्री ने भी यही घोषणा सार्वजनिक मंच से कर दी,अब अरविदं जी ने रोजगार में स्थानीय युवाओं को 80 फीसदी आरक्षण देने की बात की तो अब मुख्यमंत्री अब 70 फीसदी आरक्षण पर सख्ती की बात कर रहे हैं. यानी अगर केजरीवाल जी 80 प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का वादा नहीं करते तो धामी जी को 70 प्रतिशत रोजगार की बात याद ही नहीं आती.

 अब प्रदेश की जनता मुख्यमंत्री जी की इस सियासी नौटंकी की असलियत को समझ चुकी है. अब जनता और ज्यादा बीजेपी के झांसे में नहीं आने वाली. उत्तराखंड का युवा, भाजपा का असली चेहरा पहचान चुका है. उन्होंने बीजेपी को नसीहत देते हुए कहा कि, नकल के लिए भी अकल की जरुरत होती है ,जो बीजेपी के पास नही है. अब प्रदेश की जनता बीजेपी के खोखले दावों से तंग आ चुकी है और आप पार्टी में उन्हें सभी उम्मीदें नजर आ रही हैं ,जो सरकार बनते ही सबकी कसौटी पर पूरी तरह खरा उतरेगी.

WATCH LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.