‘महाघोटाला’ जिसमें पुतिन समेत फंसे 91 देशों के नेता और अधिकारी, सामने आया छिपा खजाना


नई दिल्ली: हाल ही में लीक हुए दस्तावेजों (Pandora Papers) में दुनिया के 91 देशों के 330 से ज्यादा नेताओं, सरकारी अधिकारियों, भगोड़ों, चोरों, कलाकारों, हत्यारों और बड़ी हस्तियों के नाम हैं. फाइनेंशियल सीक्रेट्स को उजागर (Scam) करने वाले अंतरराष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ (ICIJ) ने ये खुलासा किया.

बड़े नेताओं के अवैध लेन-देन की खुली पोल

बता दें कि ये सीक्रेट दस्तावेज जॉर्डन के राजा, यूक्रेन, केन्या और इक्वाडोर के राष्ट्रपतियों, चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री और पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर के छुपे हुए लेन-देन को उजागर करते हैं. फाइलें रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के अनौपचारिक प्रचार मंत्री और रूस, अमेरिका, तुर्की और अन्य देशों के 130 से ज्यादा अरबपतियों की आर्थिक गतिविधियों की भी डिटेल देती है.

इस देश के प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार का भंडाफोड़

फ्रेंच रिवेरा में 2.2 करोड़ डॉलर यानी 1 अरब 63 करोड़ रुपये का एक शैटॉ, एक सिनेमा और दो स्विमिंग पूल चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री ने अवैध तरीके से खरीदे. ये खुलासा करके एक अरबपति ने आर्थिक और राजनीतिक वर्ग के भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई है.

ग्वाटेमाला के सबसे शक्तिशाली परिवारों में से एक राजवंश, जो साबुन और लिपस्टिक ग्रुप पर कंट्रोल करता है, जिस पर मजदूरों और पृथ्वी को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया गया है, उनकी एक अमेरिकी ट्रस्ट में 1.3 करोड़ डॉलर या 96 करोड़ 40 लाख रुपये से ज्यादा की प्रॉपर्टी है.

जॉर्डन के राजा ने किया घोटाला!

अरब स्प्रिंग के दौरान बेरोजगारी और भ्रष्टाचार के विरोध में जॉर्डन के लोगों ने सड़कों पर धरना दिया था लेकिन उसके कुछ ही साल बाद जॉर्डन के राजा ने मालिबू में तीन समुद्री तटों को 6.8 करोड़ डॉलर यानी 5 अरब 4 करोड़ रुपये में खरीद लिया. बता दें कि इन्ही सीक्रेट दस्तावेजों को पेंडोरा पेपर्स (Pandora Papers) के रूप में जाना जाता है.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.