NDA के हौसले बुलंद, उपचुनाव में एकतरफा जीत का किया दावा


Patna: बिहार में हो रहे उपचुनाव को लेकर दांव-पेंच जारी है. जहां एक तरफ कांग्रेस और RJD अपने-अपने निजी मसलों में ही उलझे हैं, वहीं NDA के हौसले बुलंद लग रहे हैं. इसकी बानगी शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान दिखी. जहां जदयू के जदयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय कुमार झा पत्रकारों से बात कर रहे थे.

पत्रकारों से की बात
जदयू कार्यालय में आयोजित ‘जन सुनवाई’ कार्यक्रम के बाद झा ने पत्रकारों NDA प्रत्याशी की एकतरफा जीत की बात कह दी. उन्होंने कहा कि बिहार में विधानसभा की दो सीटों कुशेश्वर स्थान और तारापुर पर हो रहे उपचुनाव में एनडीए प्रत्याशी की एकतरफा जीत होगी. दोनों सीटों पर एनडीए प्रत्याशी 2020 की तुलना में कई गुना ज्यादा अंतर से जीतेंगे. जनता को नीतीश सरकार द्वारा किये गये विकास कार्यों पर भरोसा है, जबकि विपक्ष के पास न कोई नीति है, न ही नीयत.’ यह बात राज्य के जल संसाधन मंत्री एवं जदयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय कुमार झा ने शुक्रवार को कही.

ये भी पढ़ें-क्या कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे पप्पू यादव? बिहार में चर्चाओं का बाजार गर्म

महागठबंधन में हुआ बिखराव
संजय झा ने कहा कि उपचुनाव में एक तरफ एनडीए के सभी घटक दल एकजुट होकर मैदान में हैं और लोजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस का भी समर्थन हासिल है, दूसरी ओर महागठबंधन पूरी तरह बिखरा हुआ है. जो लोग इस बार फिर से वोटकटवा की भूमिका में मैदान में हैं, उनकी नीयत को जनता 2020 के चुनाव में अच्छी तरह समझ चुकी है. संजय झा ने कहा कि पिछले तीन दिनों तक कुशेश्वर स्थान विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में लोगों से मिला.

कुशेश्वर स्थान में नहीं आएगी बाढ़
संजय झा ने कहा कि नवरात्रि का पावन पर्व शुरू हो चुका है. माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर प्रमुख पूजा पंडालों में टीकाकरण की भी व्यवस्था की जा रही है. जिन लोगों ने अब तक टीका नहीं लिया है, उनसे अनुरोध करना चाहूंगा कि टीका जरूर लगवाएं. जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने कहा कि कुशेश्वर स्थान बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित होने वाला क्षेत्र है. यहां तीन प्रमुख नदियों- कोसी, कमला बलान और करेह- का संगम होता है और करीब चार किलोमीटर तक तटबंध नहीं होने के कारण तीनों नदियों का पानी बड़े इलाके में फैल जाता है.

ये भी पढ़ें-By Election क्या RJD में नहीं रह गई तेज प्रताप की भूमिका, क्यों नहीं बनाए गए स्टार प्रचारक?

सितंबर 2022 में पूरा होगा काम
उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के निर्देश पर कुशेश्वर स्थान और आसपास के इलाके को बाढ़ मुक्त करने के लिए जल संसाधन विभाग द्वारा बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज-3बी का काम तेजी से कराया जा रहा है. इसके तहत करेह नदी के 70.42 किलोमीटर लंबे तटबंध का उच्चीकरण और सुदृढ़ीकरण कराने के साथ-साथ 4 किलोमीटर लंबाई का नया तटबंध बनाया जा रहा है. योजना को सितंबर 2022 तक पूर्ण करने का लक्ष्य है.



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.