ये कैसी भक्ति! मन्नत पूरी करने महिलाओं ने काट दी जीभ, मंदिर में लेटाकर परिजन कर रहे भजन


संजय लोहानी/सतनाः नवरात्रि का त्योहार जारी है, दुनिया आधुनिकता पर पहुंच गई है. लेकिन आधुनिकता के इस दौर में भी मध्य प्रदेश के सतना जिले में दो महिलाओं का अंधविश्वास उन पर हावी हो गया. मैहर के मां शारदा मंदिर में उन्होंने अपनी जीभ काटकर देवी के चरणों में चढ़ा दी. यहां तक कि एक महिला के परिजन उसे अस्पताल तक नहीं ले गए और मंदिर में ही बैठकर भजन-कीर्तन कर रहे हैं.

पहली ने सुबह, दूसरी ने रात में काटी जीभ
मैहर स्थित मां शारदा के दर्शन को आईं दो महिलाओं ने अपनी जीभ काट कर चढ़ाई. उनकी इस हरकत से मंदिर परिसर में हड़कंप मच गया. दोनों मामले आज ही सामने आए, एक सुबह तो दूसरा रात 8 बजे. सुबह आई महिला के जीभ काटते ही वह बेहोश होकर गिर पड़ी. उसके मुंह से खून निकलने लगा. मौके पर मौजूद पुलिस बल ने तत्काल प्रभाव से महिला को उठाकर मंदिर से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया. महिला का इलाज करवाकर उसके परिजन उसे अपने साथ ले गए.

यह भी पढ़ेंः- फिल्मी स्टाइल में जेल से भागे 3 कैदी, प्लानिंग बनाकर फांदी दीवार, लेकिन हुआ कुछ ऐसा

मंदिर में ही हो रहा इलाज!
वहीं रात करीब 8 बजे पन्ना जिले के रायगढ़ गांव की रहने वाली 25 साल की महिला ने अपनी जीभ काटकर चढ़ा दी. लेकिन इस बार इसे अस्पताल नहीं ले जाया गया, बल्कि महिला के परिजनों ने उसे वहीं मंदिर परिसर में लेटा दिया. उन्होंने भजन-कीर्तन भी शुरू कर दिया. पुलिस ने परिजनों को समझा कर महिला को अस्पताल ले जाने के लिए कहा, लेकिन परिजन जिद पर अड़ गए. 

जिद पर अड़े परिजन
महिला के परिजन दो घंटे से पीड़िता के साथ मंदिर में ही भजन-कीर्तन कर रहे हैं. परिजनों का कहना है कि वे रात्रि कालीन आरती के बाद ही उसे अस्पताल ले कर जाएंगे. बताया जा रहा है कि दोनों महिलाओं ने मन्नत के चलते अपनी जीभ काटी थी. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं समिति के डॉ नरेश निगम ने जांच पड़ताल की.

डॉक्टर ने महिला की जान को खतरे से बाहर बताया. वहीं महिला के परिजन अब भी मेला प्रांगण में ही आरती और भजन कर रहे हैं. पुलिस के समझाने के बावजूद परिजन मानने को तैयार नहीं है. 

यह भी पढ़ेंः- MP में महाराष्ट्र पुलिस: ड्रग्स केस में एक को पकड़ा, मुंबई रेव पार्टी से है कनेक्शन!

WATCH LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.