इस मंदिर के पवित्र जल का हुआ अपमान? मंत्री ने सफाई में कही ये बात


तिरुवनंतपुरम: सबरीमाला मंदिर के पवित्र जल का कथित रूप से अपमान करने को लेकर सोशल मीडिया पर आलोचना झेल रहे केरल के देवस्वोम मंत्री के. राधाकृष्णन (K. Radhakrishnan) ने गुरुवार को आलोचनाओं को खारिज किया और कहा कि भगवान के पैसे चुराने वालों को उनसे डरना चाहिए और चूंकि उन्होंने कोई चोरी नहीं कि इसलिए उन्हें कोई डर नहीं है. मंत्री ने कहा कि कुछ चीजें हैं जिनका सेवन उन्होंने जीवन में कभी नहीं किया है और आस्था के नाम पर भी वह उनका सेवन नहीं करेंगे. 

क्या है पूरा मामला?

आपको बता दें कि सोशल मीडिया पर कुछ लोगों द्वारा उनकी आलोचना किए जाने के संबंध में प्रतिक्रिया पूछने पर मंत्री ने यह सब बातें कहीं. सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने आरोप लगाया है कि वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए इस सप्ताह की शुरुआत में मंदिर खुलने पर मंत्री ने सबरीमाला मंदिर के गर्भगृह के समक्ष हाथ नहीं जोड़े.

यह भी पढ़ें: वाइन के फेमस ब्रांड पर बहस, बात इतनी बढ़ी कि दो देशों के बीच हुआ विवाद

मंत्री ने किया मंदिर का अपमान?

आलोचकों का यह भी कहना है कि मंत्री ने पुजारी द्वारा सेवन के लिए दिए गए पवित्र जल का सेनेटाइजर की तरह इस्तेमाल करके ‘तीर्थम’ का अपमान किया है. गौरतलब है कि पवित्र जल का सेवन नहीं करके उसे दोनों हाथों में मलने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. मंदिर की परंपरा के अनुसार, श्रद्धालुओं को पवित्र जल का सेवन करना होता है और बचा हुआ जल अपने सिर पर छिड़कना होता है.

यह भी पढ़ें: सगाई के दौरान दो गुटों के बीच ताबड़तोड़ फायरिंग, मचा हड़कंप

मंत्री ने अपने पक्ष में दी सफाई

राधाकृष्णन ने कहा, ‘मैं रोज अपनी मां का सम्मान करने के लिए हाथ नहीं जोड़ता. इसका मतलब क्या है, क्या मैं अपनी मां का सम्मान नहीं करता? बचपन से मेरा अपना तरीका है. मैं इस जल (तीर्थम) का सेवन नहीं करता. अगर कोई आस्था के नाम पर कहे, तब भी मैं इसका सेवन नहीं करूंगा.’ मंत्री ने कहा कि उनकी अपनी सोच है, लेकिन वह दूसरों की आस्था को गलत नहीं कहेंगे. साथ ही मंत्री ने यह भी कहा कि वह दूसरों की आस्था की रक्षा करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *