पैशन को पूरा करने के लिए छोड़ी शानदार जॉब! ‘मिट्ठू मियां’ को बेचकर मिलता है सुकून


लंदन: आपने अक्सर सुना होगा कि लोग पैशन फॉलो करने के लिए क्या-क्या नहीं करते. ऐसा ही एक मामला ब्रिटिश-पाकिस्तानी एयरोस्पेस इंजीनियर का सामने आया है. उस व्यक्ति ने अपनी फुल-टाइम जॉब को छोड़कर अपने जुनून को आगे बढ़ाने का फैसला लिया. 30 साल के अब्दुल सत्तार हुसैन की कहानी काफी रोचक है.

इंजीनियर बना पक्षी प्रेमी

दरअसल सत्तार हुसैन को पक्षियों से खासा लगाव है. अपनी शानदार नौकरी छोड़ दी. 30 साल के अब्दुल सत्तार हुसैन ने यूनिवर्सिटी ऑफ हर्टफोर्डशायर से पढ़ाई की है. अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने अपनी पहली नौकरी लंदन सिटी एयरपोर्ट पर की थी. बाद में वह सेंट्रल लंदन में एयरोस्पेस इंजीनियर (Aerospace Engineer) बन गए.

लॉकडाउन में शौक में शुरू किया बिजनेस

जियो न्यूज की एक खबर के मुताबिक जब दुनिया में कोविड-19 के कारण लॉकडाउन लगा था तब उन्होंने अपने घर की एक शेड से पक्षियों खासकर तोते बेचने शुरू किया. फिर उन्हें इस काम से लगाव हो गया. कुछ समय बाद उन्होंने अपने इसी जुनून को आगे बढ़ाने के लिए अपनी नौकरी को छोड़ दिया. सत्तार ने शुरुआत में पक्षियों को ऑनलाइन बेचना शुरू किया था और फिर उनके घर के बाहर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई जो पक्षियों को देखने और खरीदने की मांग कर रहे थे. फिलहाल उन्होंने अपने काम को बढ़ाते हुए प्रसिद्ध तोते-मियां मिट्ठू सहित कई पक्षियों के प्रजनन और बिक्री का काम भी शुरू कर दिया है. 

यह भी पढ़ें: दुनिया का अनोखा स्पा, जहां हाथ नहीं सांप करते हैं मसाज; देखें VIDEO

उठानी पड़ीं कई दिक्कतें

सत्तार को अपने इस काम में भी कई कठिनाइओं का सामना करना पड़ा. शुरुआती दिनों में उनके पड़ोसियों ने स्थानीय अधिकारियों से शिकायत करते हुए कहा कि उनके पक्षी बहुत शोर मचाते हैं और ग्राहक उनके घरों के बाहर भीड़ लगाकर खड़े होते हैं. इसके बाद पाकिस्तानी इंजीनियर ने पेशेवर रूप से पक्षियों को बेचने के लिए एसेक्स (Essex) में पूर्वी लंदन के हैनॉल्ट के एक इंडस्ट्रियल एरिया में एक यूनिट की स्थापना करने का फैसला लिया. सत्तार का मानना है कि उनका यह व्यवसाय इंजीनियरिंग की नौकरी से ज्यादा फायदेमंद है. हालांकि सत्तार का अब भी यही कहना है कि उन्होंने अपना यह व्यवसाय पैसों के लालच में शुरू नहीं किया था बल्कि यह तो उनका पक्षियों के लिए प्रेम था जोकि एक संतुलित व्यवसाय की ओर बढ़ गया. 

यह भी पढ़ें: पब में बैठकर बीयर पी रहा था शख्स, तभी हुई भूत की एंट्री और मच गई चीख-पुकार

मां ने गिफ्ट की थी पहली चिड़िया

सत्तार अपनी सफलता की कहानी सुनाते हैं तो कहते हैं कि उनकी पहली चिड़िया उनकी मां ने तोहफे में दी थी. इसके बाद उनके माता-पिता ने उन्हें एक ब्लू इंडियन रिंग-नेक पैराकीट खरीदकर दिया था. सत्तार अपने कॉलेज में पढ़ने के लिए जब बाहर गए तो अपने पसंदीदा पक्षियों को अपने साथ लेकर गए थे. उन्होंने कहा कि ‘करीब 8 साल बाद एक दिन अचानक वह चिड़िया मर गई और मेरा दिल टूट गया. मैं बहुत रोया और आज तक मैं उसे बहुत याद करता हूं. किसी पक्षी से प्यार करना अपने आप में अद्भुत है.’ पक्षियों को लेकर उनके इसी प्यार के चलते उनका इंजीनियरिंग से मोह भंग हो गया और वह इस काम की ओर मुड़ गए.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *