Corona के बढ़ते मामलों को लेकर CM Gehlot चिंतित, उच्च स्तरीय बैठक में लिया ये फैसला


Jaipur: राजस्थान में करोना के बढ़ते मामलों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) बेहद चिंतित हैं. मुख्यमंत्री ने आज सुबह हालातों की समीक्षा और रोकथाम के लिए उच्च स्तरीय बैठक ली. मुख्यमंत्री ने जिलों में सोशलडिस्टेंस की पालना और जीरो सर्वे करवाने के निर्देश दिए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आए लिहाजा प्रधानमंत्री को वैक्सीन की बूस्टर डोज के लिए पत्र लिखा जा रहा है. CM ने कहा कि यूरोप में जिस तरीके से मामले बढ़े हैं. दो महीने बाद राजस्थान में भी पुराना के आंकड़े बढ़ने की पूरी संभावना है. लिहाजा उचित तैयारी अभी से शुरू कर दी गई है.

यह भी पढ़ें – महापौर मुनेश गुर्जर ने लिया सफाई व्यवस्था का जायजा, 25 सफाई कर्मचारियों और एसआई किए निलंबित

प्रदेश में तीन महीने बाद कोरोना से मौत का केस आने के बाद शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोर ग्रुप के साथ कोरोना (Coronavirus) के हालात और रोकथाम पर समीक्षा बैठक की. सीएम गहलोत ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की संभावनांए तलाशने और पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने का फैसला किया है.

बैठक में अधिकारियों जिलों में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाने पर जोर देने को कहा है. जीनोमसिक्वेंसिंग और सीरो सर्वे करवाने के निर्देश दिए हैं. समीक्षा बैठक के बाद  सीएम गहलोत ने कहा कि हमने फैसला किया है कि पीएम मोदी को पत्र लिखेंगे कि कोरोना वैक्सीन की तीसरी बूस्टर डोज (Covid Vaccine Booster Dose) लगाने की अनुमति दें. सालभर बाद अब तीसरी डोज की आवश्यकता है ताकि तीसरी लहर नहीं आए. पीएम को लिखेंगे कि बूस्टर डोज पर विचार करें और और इसकी मंजूरी दें. कई देशों में बूस्टर डोज लगाना शुरू कर दिया है. हमारे यहां भी कई लोगों को अब साल भर हो गया, इसलिए बूस्टर डोज लगाना चाहिए. केंद्र इसकी व्यवस्था करे.

यह भी पढ़ें – तीन कृषि कानून बिल वापस लेने का ऐलान, दिल्ली-जयपुर हाईवे पर बैठे किसानों का ये है आगे का प्लान

सीएम गहलोत ने कहा कि कोविड पर हमने समीक्षा बैठक करके डॉक्टरों की राय ली है. यूरोप और रूस में भयंकर रूप से कोरोना फैल रहा है. जर्मनी, रूस में बेड तक नहीं मिल रहे. उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि कोरोना की वजह से यूरोप में 5 लाख लोग मर सकते हैं. यह भी एक धारणा है कि कोरोना जब यूरोप में आता है तो दो महीने बाद एशिया में आता है. हमारा देश भी उसी में है. कोरोना की हमारे यहां भी संख्या बढ़ी है, इसलिए हमने समीक्षा की है.

सीएम गहलोत ने कहा कि स्कूलों में कोरोना मामले आना खतरनाक है. हम इस पर नजर रखे हुए हैं. तीसरी लहर राजस्थान में आनी ही नहीं चाहिए, यह हम सबका सोचना है. इसके लिए सबको सावधानियां रखनी होंगी. कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *