बर्फिस्तान में उड़ान, पहली बार बर्फीले रनवे पर उतरा 290 यात्री क्षमता वाला विमान


नई दिल्ली: अंटार्कटिका (Antarctica) वो जगह है जो हमेशा बर्फ (Snow) से ढकी रहती है. जहां आम इंसान आसानी से पहुंच भी नहीं सकता है. उसी बर्फीले महाद्वीप (Icy Continent) पर एक एविएशन कंपनी (Aviation Company) ने इतिहास रचा है. अंटार्कटिका में एयरबस ए-340 (Airbus A-340) की लैंडिंग हुई है. आज से पहले ऐसा कभी नहीं हुआ था. दूर तक कोई एयरपोर्ट (Airport) नहीं तो फिर इस विमान की लैंडिंग (Landing) कहां और कैसे हुई? अंटार्कटिका में विमान की लैंडिंग होना एक ऐतिहासिक घटना है.

इतिहास में कभी नहीं हुआ ऐसा

अंटार्कटिका में जहां बर्फ के अलावा कुछ दिखाई ही नहीं देता और आज से पहले इस महाद्वीप पर ऐसा कुछ हुआ भी नहीं था. 290 लोगों की क्षमता वाला विमान एयरबस A-340 बर्फीले रनवे पर लैंड हुआ. पर्यटन के क्षेत्र में काम करने वाली एक एविएशन कंपनी Hi Fly ने इसे मुमकिन कर दिखाया है.

ये भी पढ़ें- अचानक अपना भाषण ही भूल गए ब्रिटिश PM, मुंह से निकाली गाड़ियों की आवाज

विमान ने दक्षिण अफ्रीका से भरी थी उड़ान

Hi Fly 801 पैसेंजर प्लेन ने जब अंटार्टिका में सफल लैंडिंग की तो इतिहास बन गया. Hi Fly 801 की इस फ्लाइट ने 2 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन से उड़ान भरी थी. पांच घंटे के सफर के बाद ये विमान अंटार्कटिका पहुंचा.

बीते 3 साल में कई बार हुआ ट्रायल

बता दें कि अंटार्कटिका में साल के ज्यादातर समय बर्फ जमी रहती है. ऐसे में यहां रनवे तैयार कर पाना भी एक बड़ा टास्क था. इससे पहले साल 2019 और 2020 के बीच हाई प्लाई की इस फ्लाइट के लिए कई ट्रायल किए गए थे. अंटार्कटिका में बेशक कोई एयरपोर्ट नहीं है लेकिन यहां कई एयर स्ट्रिप और रनवे बनाए जा चुके हैं.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *